सांचौर : पालिका में टैन्डर आवंटन में फर्जीवाड़े का आरोप, लोगो ने एसडीएम को ज्ञापन सौंप

जागरूक टाइम्स 173 Jan 5, 2021

सांचौर : नगरपालिका में विकास के विभिन्न कार्यो के लिये जारी कर अपनाई गई प्रक्रिया को लेकर रोष जाहिर करते हुए लोगो ने उपखंड कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर सीएम के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंप, टेंडर प्रणाली में भ्रष्ट्राचार कर धांधली का आरोप लगाते हुए बिना प्रक्रिया अपनाये हुए टैन्डर को निरस्त करने व दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। इस दौरान लोगो ने आरोप लगाया कि सांचौर नगर पालिका के बोर्ड का कार्यकाल पूरा हो गया है ऐसे में पालिका ईओ ही सर्वे सर्वा है, जो की मनमर्जी से करोड़ो रूपये के टैन्डर जारी कर भ्रष्ट्रचार का खुला खेल रहे है, एक साथ सौ से ज्यादा 100 निविदा प्रक्रिया अपनाई गई, जिसमें करोड़ो रूपये के कागजी कार्य के नाम पर निविदा को शामिल कर ठेकेदारो से मिलीभगत कर बांट दी गयी, जिसके लिये न तो स्थानीय स्तर पर प्रकाशन की कार्यवाही की और न ही स्थानीय स्तर के ठेकेदारो को निविदा की कॉपी दी गई।

पालिका में एनआईटी सं या 1,2,3 व 4-2021 में भारी धांधली कर चाहिते ठेकेदारों को 100 टेंडर दे कर के सरकार को करोड़ों का चुना लगाया गया है, ज्ञापन में बताया कि करीब 1 साल से यह खेल खेला जा रहा है और एक फर्म को एक साथ 5,5 टेंडर दिए गये हैं , जबकि अन्य ठेकेदारों को समय पर एनआईटी की कॉपी तक नहीं दी जाती है तथा वहीं 5 -5 लाख से कम के कार्य की निविदा को अॅानलाइन की ऑफ कर प्रक्रिया की जाती है ताकि धांधली करने में आसानी रहती है कुछ चाहिते ठेकेदारों ने तो पहले काम कर दिया है और एनआईटी बाद में लगा कर के घोटाला किया गया है।

ज्ञापन में बताया कि नगर पालिका में भारी भ्रष्टाचार का बुलबुला बना हुआ है जब की पूर्व में जो निविदाऐ दी गई जिसमें पारदर्शी प्रक्रिया अपनाने की वजह से 20 प्रतिशत बिलो अर्थात निर्धारित दर से कम पर निविदा ली गई थी, जबकि वर्तमान में पालिका ईओ की मिलीभगत से जाराी की गई निविदा प्रक्रिया में 10 प्रतिशत एबोव अर्थात निर्धारित दर से ज्यादा अधिक दर में आंवटित कर सरकार के राजस्व को चुना लगाया गया है। अभी इन एक काम के लिए एक से ज्यादा फर्म को कोपी नहीं दी गई इसलिए, ज्यादा आवेदन नहीं लिए गए हैं । इस दौरान गंगाराम पूनीया, सांवलाराम देवासी, ओमप्रकाश बिश्नोई, अर्जुनसिंह सहित कई जने मौजूद थे।

यह भी लगाये आरोप - नगरपालिका द्वारा जारी किये जाने टैन्डर के नाम पर बरती जा रही प्रक्रिया को सवालो के घेरे में खड़ा करते हुए आरोप लगाया गया कि पालिका द्वारा एक ही काम के छोटे- छोटे टुकड़े करकेउसकी लागत ५ लाख से कम कर दी जाती है, टैन्डर प्रक्रिया के दौरान कार्यालय नोटिस बोर्ड , शहर के आम स्थानों पर सूचना चस्पा करनी होती है, किन्तु पालिका द्वारा उक्त निर्देशो की पालना नहीं की जाती है। पालिका द्वारा १७ दिस बर २० को जारी की गई निविदा सूचना सं या २०२०-५७१४ व ५८७४ चस्पा की गई थी, जिसमें ३० व १७ कार्य थे, परन्तु पालिका ने अनियमितता करने के लिये इनके साथ दो और निविदा जारी गई थी, किन्तु उसकी सूचना नोटिस बोर्ड पर चस्पा नहीं की गई, जिसमें करीब ६७ कार्य थे, जो चहेती फर्म को आंवटित कर दिये गये। ज्ञापन में बताया कि मांगे नहीं माने जाने पर धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी है।


Leave a comment