ऑक्सीजन एक्सप्रेस: आंध्र प्रदेश से महाराष्ट्र के लिए निकली पहली रेल

जागरूक टाइम्स 320 Apr 23, 2021

नई दिल्ली. भारत की पहली 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' विशाखापट्टनम से लेकर महाराष्ट्र के बीच गुरुवार को पहली बार दौड़ी. गुरुवार देर शाम आंध्र प्रदेश के राष्ट्रीय इस्पात निगम से ऑक्सीजन टैंकर्स लेकर निकली. महाराष्ट्र और राजधानी दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में ऑक्सीजन की किल्लत की खबरें सामने आ रही हैं. ऐसे में रेलवे ने स्टील प्लांट्स से देश के अलग-अलग हिस्सों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का फैसला किया है.

रेलवे की तरफ से जारी बयान में कहा गया 'हर टैंकर में 15 टन लिक्विड ऑक्सीजन भरी हुई है और ट्रेन शाम को महाराष्ट्र की ओर जाना शुरू हुई. ईस्ट कोस्ट रेलवे के वाल्टेयर डिवीजन और RINL के अधिकारियों के संयुक्त प्रयास ने प्रोजेक्ट को सफल बनाया. यह हाल ही में कोविड-19 में हुई बढ़त के बीच काफी फायदेमंद साबित होगी.' इसके अलावा रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्रेन का एक वीडियो शेयर किया है.

उन्होंने लिखा 'लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन टैंकर्स से भरी पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस महाराष्ट्र से विजाग के लिए रवाना हुई. रेलवे जरूरी चीजों की आवाजाही के जरिए मुश्किल दौर में देश की सेवा करना और इनोवेशन के जरिए नागरिकों की भलाई को सुनिश्चित रखना जारी रखेगा.' रेलवे की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, 'रेलवे ने जरूरी चीजों का परिवहन किया और बीते साल लॉकडाउन के दौरान भी सप्लाई चेन को बनाए रखा और आपातकाल में देश की सेवा करना जारी रखा. इस बार ऑक्सीजन एक्सप्रेस की गतिविधियां देश के अलग-अलग हिस्सों में मरीजों और अस्पतालों की मदद करेंगी.' महामारी की 'दूसरी लहर' कहे जा रहे इस दौर में अस्पतालों और मरीजों के लिए ऑक्सीजन की किल्लत की खबरें सामने आईं.

ऐसे में सरकार के प्रयासों के अलावा भी लोगों ने अपने निजी स्तर पर मेडिकल संसाधन जुटाने की कोशिश की है. देश में अचानक बढ़े कोविड के मामलों के चलते कई हिस्सों में ऑक्सीजन की मांग में काफी इजाफा हुआ है. पीटीआई भाषा के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में ऑक्सीजन आपूर्ति की समीक्षा करने के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक की थी और अधिकारियों से ‘प्राणवायु’ का उत्पादन बढ़ाने, इसके वितरण की गति तेज करने और स्वास्थ्य प्रतिष्ठानों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए नए तरीके अपनाने को कहा था. साथी ही मोदी शुक्रवार को चुनाव रैलियों को संबोधित करने बंगाल नहीं जाएंगे और महामारी से संबंधित स्थिति की समीक्षा के लिए यहां उच्चस्तरीय बैठकें करेंगे.

Leave a comment