देश में 102 दिन बाद कोरोना के इतने कम केस, 24 घंटे में 37,566 नए मामले, 907 मरीज़ों की मौत

जागरूक टाइम्स 238 Jun 29, 2021

नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus In India) के मामलों की रफ्तार में रोज कमी दर्ज की जा रही है. वहीं मौतों का आंकड़ा भी घट रह रहा है. देश में सोमवार सुबह 8 बजे से मंगलवार सुबह 8 बजे तक कुल 37,566 नए मामले दर्ज किए गए और 907 लोगों की मौत हो गई. इसी समयावधि में 56,994 लोग डिस्चार्ज हुए. इसके साथ ही बीते 24 घंटे में20, 335 एक्टिव केस में कमी दर्ज की गई. बता दें कि देश में 102 दिनों बाद कोरोना के नए मामले 40 हजार के कम पाए गए हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देश में फिलहाल कुल 5,52,659 एक्टिव केस हैं, वहीं 2,93,66, 601 लोगो कोरोना संक्रमण से उबर चुके हैं, जबकि 3,97,637 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं टीकाकरण (Vaccination In India) की बात करें तो स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि देश में अब तक 32.85 करोड़ (32,85,54,011) कोविड-19 रोधी टीके की खुराक दी जा चुकी है.

अब तक 40 करोड़ से ज्यादा लोगों की हुई टेस्टिंग- ICMR
रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार को टीके की 52,76,457 खुराक दी गई. इसमें कहा गया है कि सोमवार को 18-44 आयु वर्ग के 28,63,823 लाभार्थियों को पहली खुराक दी गई और 91,640 को दूसरी खुराक दी गई. राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण की शुरुआत के बाद से 18-44 आयु वर्ग के कुल मिलाकर, 8,75,67,172 लोगों को पहली खुराक दी गई है और 19,94,410 लोगों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है.

मंत्रालय ने कहा कि आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल ने 18-44 आयु वर्ग के 10-10 लाख से अधिक लाभार्थियों को टीके की पहली खुराक दी है. उधर, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार सोमवार तक 40,81,39,287 लोगों की टेस्टिंग की जा चुकी है. इसमें से 17,68,008 लोगों की टेस्टिंग 28 जून को की गई.


अस्पतालों में बाल चिकित्सा सुविधाओं के लिए बजट से अतिरिक्त 23,220 करोड़ रुपये
उधर कोरोना वायरस की तीसरी लहर में बच्चों पर ज्यादा असर होने की संभावनाओं के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अस्पतालों में बच्चों के इलाज के लिये बिस्तरे और अन्य सुविधायें बढ़ाने के वास्ते सोमवार को बजट से 23,220 करोड़ रुपये का अतिरिक्त कोष उपलब्ध कराने की घोषणा की. अधिकारिेयों ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को यह राशि दे दी गयी है. वह राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राज्यों के साथ मिल कर इसका उपयोग करेगा.

सीतारमण ने इसके साथ ही निजी अस्पतालों को चिकित्सा और स्वास्थ्य ढांचा स्थापित करने के वासते 50,000 करोड़ रुपये की ऋण गारंटी योजना की भी घोषणा की है. यह सुविधा आठ महानगरों को छोड़कर अन्य शहरों में स्थापित किये जाने वाले स्वास्थ्य ढांचे के लिये उपलब्ध होगी.

वित्त मंत्री ने इसकी घोषणा करते हुये कहा, ‘हम अब प्राथमिक रूप से बाल चिकित्सा पर केन्द्रित सुविधाओं के लिये 23,220 करोड़ रुपये की राशि और उपलब्ध करा रहे हैं. यह धन इसी वित्त वर्ष में खर्च किा जाएगा.’ उन्होंने कि इस सुविधा से लाभ बच्चे के अलावा दूसरे मरीजों को भी आराम होगा.


Leave a comment