दिल्‍ली से नाबालिग अगवा, आगरा में राजस्‍थानी युवक से 60000 रुपये में सौदा

जागरूक टाइम्स 360 Oct 18, 2021

नई दिल्‍ली. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए ऐसे आरोपियों को धर दबोचा है, जिन्‍होंने पैसे के लालच में एक मासूम नाबालिग बच्ची को करीब 60 हजार रुपये में बेच डाला. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के ज्वाइंट कमिश्नर आलोक कुमार के मुताबिक, उस नाबालिग लड़की को उत्तर प्रदेश के आगरा में बेचा गया. हालांकि इस मामले पर हमारी टीम ने विशेष तौर पर कार्रवाई करते हुए उस नाबालिग लड़की को राजस्थान के सीकर इलाके से बरामद कर लिया गया है. इस मामले में जब तफ्तीश की गई तो पता चला कि राजस्थान के युवक को शादी के लिए लड़की नहीं मिल रही थी, तब उसने बिचौलियों से एक लड़की खरीदी थी जो कि दिल्ली से लापता हुई थी.

दिल्ली पुलिस की शालीमार बाग थाना पुलिस को हैदरपुर इलाके में रहने वाले एक पीड़ित परिवार के द्वारा एक शिकायत प्रदान की गई थी कि उसकी 15 साल की बेटी उसके घर के पास से ही 16 अक्टूबर से अगवा (लापता) हो गई है. लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम को इस केस को ट्रांसफर किया गया. उसके बाद एसीपी एसके गुलिया और इंस्पेक्टर अमलेश्वर राय के नेतृत्व में एक टीम का गठन करके उनके अंतर्गत हेड कांस्‍टेबल गोपाल कृष्ण, सिपाही विजय कुमार सहित कई जवानों को इस ऑपरेशन के लिए शामिल किया गया.

ऐसे मिली लापता नाबालिग की जानकारी
वहीं, इस ऑपरेशन को अंजाम देने से पहले क्राइम ब्रांच की टीम ने लापता लड़की के परिजनों से और उसके दोस्तों से बातचीत की. इसके साथ ही इससे मिले इनपुट के आधार पर आगे की तफ्तीश को बढ़ाया गया. उसी दौरान क्राइम ब्रांच की टीम को जानकारी मिली कि पिछले कुछ समय से अगवा लड़की अपने घर के आसपास ही रहने वाले नीरज सोनकर नाम के एक लड़के के साथ संपर्क में थी. वहीं, यह भी पता चला कि नीरज और दिल्ली के रोहिणी इलाके में रहने वाली मुस्कान नाम की लड़की के साथ लापता लड़की को कहीं जाते हुए देखा गया था. इस इनपुट्स को तलाशने के दौरान उत्तर प्रदेश के आगरा की तरफ जाने की जानकारी मिली, वहां क्राइम ब्रांच की टीम जब पहुंची तब शीतल नाम की एक अन्य लड़की का उन लोगों के साथ कनेक्शन सामने आया. इसके बाद राजस्थान के सीकर निवासी को उस नाबालिग लड़की को बेचने की पुख्‍ता जानकारी मिली.

क्राइम ब्रांच की टीम लड़की को कहीं छुपाया जाता या फिर बेचा जाता, इससे पहले सीकर पहुंच गई और उसे सही सलामत आरोपियों के चंगुल से छुड़ा लिया. इस मामले पर उस लड़की को खरीदने वाले शख्स गोपाल लाल से जब कड़ाई से पूछताछ की गई तब उसने स्वीकार किया कि उस नाबालिग लड़की को उसने 60 हजार रुपये में खरीदा था, जिसके साथ वो अपने साले दानवीर उर्फ दाना की शादी करवाना चाहता था.

क्या है दिल्ली-एनसीआर से लापता लड़कियों का है राजस्थान कनेक्शन?
क्राइम ब्रांच की टीम आरोपी गोपाल लाल और नीरज सोनकर को आरोपियों को गिरफ्तार करके पीड़ित लड़की के साथ दिल्‍ली लेकर आयी है. इस मामले में आरोपी से पूछताछ करने पर यह पता चला कि आरोपी दानवीर उर्फ दाना की काफी समय से शादी नहीं हो पा रही थी, उसके लिए काफी लड़कियां तलाशी गईं, लेकिन लड़की उपलब्ध नहीं होने पर दिल्ली से उस नाबालिग लड़की का अपहरण करके उसे खरीदा गया. हालांकि इस मामले पर अब विस्तार से पूछताछ की जाएगी, उसके बाद ही इस मामले की सच्चाई पता चल पाएगी. वहीं, क्राइम ब्रांच की टीम इस मामले की भी पड़ताल करेगी कि क्या पहले भी दिल्ली से लापता हुईंं या अपहरण करके लाई गई लड़कियों की शादी इस इलाके में की गई है या नहीं ? दिल्ली से लापता हो रही नाबालिग लड़कियों के साथ गिरफ्तार हो चुके आरोपियों का कोई कनेक्शन है या नहीं, इस मामले पर भी तफ्तीश की जाएगी.

इसके साथ ही बहुत जल्द ही कानून के मुताबिक, आरोपी शीतल और मुस्कान को भी गिरफ्तार किया जाएगा और उसने खिलाफ भी उचित कार्रवाई को अंजाम दिया जाएगा. हालांकि शादी के लिए लड़की की खरीदारी करने वाला शख्स दानवीर उर्फ दाना फिलहाल फरार है, लेकिन दिल्ली पुलिस का कहना है कि जल्द ही उस आरोपी को भी गिरफ्तार करके भेज दिया जाएगा.


Leave a comment