उदयपुर मानसून : मूसलाधार बारिश से पूरा शहर जलमग्न, घरों में घुसा पानी

जागरूक टाइम्स 528 Aug 24, 2020

उदयपुर में पिछले कुछ दिनों से मानसून का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा था, क्योंकि झीलों की नगरी की झीलें खाली थीं. शहरवासी इंद्रदेव से इस शहर में बरसने की आस लगाए बैठे थे. रविवार को दोपहर बाद उदयपुर में मूसलाधार बारिश शुरू हुई और उसके बाद देखते ही देखते पूरा शहर जलमग्न हो गया. उदयपुर में दोपहर बाद हुई बारिश 104 एमएम दर्ज की गई और इस दौरान शहर के सभी मोहल्लों और सड़कों पर पानी भर गया. उदयपुर में बीते 36 घंटों में कुल 193 एमएम बारिश दर्ज की गई है.

रविवार को दोपहर बाद हुई बारिश से शहर की स्थिति बिगड़ने लगी और अधिकतर इलाकों की सड़कों पर पानी भर गया. शक्तिनगर, भट्ट जी की बाड़ी और सेंट्रल एरिया में लोगों के घरों में पानी घुस गया और घर के सामान पानी में तैरने लगे. इस बारिश से सड़कों पर पानी भरा और कुछ इलाकों में कारें भी पानी में आधी डूब गईं. उदयपुर के कई मोहल्लों में पानी तेज बहाव से सड़कों पर बहता रहा. कई वर्ष बाद बेकनी पुलिया के नाले में भी पानी का तेज बहाव देखा गया. बारिश के चलते करीब 4 घंटे तक पूरा शहर थम सा गया और इस दौरान कुछ जगह हादसे भी हुए.

एफसीआई गोदाम की दीवार तेज बारिश के चलते धराशाई हो गई. इससे दो कारों को काफी नुकसान पहुंचा. यही नहीं, कई जगह पर कार पानी में डूबने से भी खराब हुई. रानी रोड पर पहाड़ से चट्टानें सड़क पर गिर गईं. हालांकि लॉकडाउन होने के चलते लोगों की आवाजाही रानी रोड पर नहीं थी, अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था. इसके अलावा खमनोर के समीप पिकनिक मनाने गए उदयपुर के तीन युवकों पर बिजली गिर गई, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई.

दोपहर बाद झमाझम शुरू हुई बारिश के बाद नदी-नालों में भी उफान देखा गया और शहर की प्रसिद्ध पिछोला और फतेहसागर झील में पानी की आवक शुरू हो गई. सीसारमा नदी करीब 7 फीट वेग से बही तो वही मदार नहर में भी पानी आने से शहरवासियों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. अब उम्मीद की जा रही है कि उदयपुर की खूबसूरत झीलें जल्द ही लबालब होंगी. दूसरी और आसपास की नदियों में भी पानी का रौद्र रूप देखा गया और कई जगह पुलिया से होकर गुजरते पानी ने गांव से संपर्क तक तोड़ दिया. आज हुई बारिश में टीडी डैम भी पूरा भरने के बाद छलक गया.


Leave a comment