वर्ल्ड क्लास होगा उदयपुर का रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डे जैसी मिलेगी सुविधाएं

जागरूक टाइम्स 318 Sep 16, 2021

उदयपुर. विश्वप्रसिद्ध ट्यूरिस्ट सिटी उदयपुर के रेलवे स्टेशन की सूरत बदली जायेगी. यहां यात्रियों को बेहतर यात्रा का अनुभव देने के लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समान अत्याधुनिक सुविधाएं प्रदान करायी जायेंगी. चूंकि लेकसिटी उदयपुर दुनियाभर के पर्यटकों के लिये विशेष आकर्षण का केन्द्र है इसलिये रिनोवेशन के लिये यहां के रेलवे स्टेशन को चुना गया है. उदयपुर के साथ ही सूरत और उधना रेलवे स्टेशन को भी रिनोवेट किया जायेगा. उदयपुर रेलवे स्टेशन के रिनोवेशन के लिये एक नई ईस्ट-साइड एंट्री स्टेशन बिल्डिंग की परिकल्पना की गई है.
आईआरएसडीसी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी एसके लोहिया ने बताया कि उदयपुर समेत सूरत और उधना रेलवे स्टेशन के लिये की जा रही इस कवायद से सभी उत्साहित हैं. इन स्टेशनों को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों के समान बदला जायेगा. यात्रियों को विश्वस्तरीय सुविधाएं प्रदान करने के लिए वैश्विक मानकों के अनुरूप इन्हें रिनोवेट किया जायेगा. इससे बेहतर कनेक्टिविटी, मल्टी-मॉडल ट्रांसपोर्ट इंटीग्रेशन और रिटेल तथा रियल एस्टेट को बढ़ावा देने में काफी सहयोग मिलेगा. इससे रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे.

132 करोड़ रुपये आयेगी लागत
इसके लिये झीलों की नगरी उदयपुर में बुधवार को पुनर्विकास से संबंधित प्री-बिड बैठक हुई. इसमें विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई. इसमें बताया गया कि इससे संबंधित क्षेत्रों में नये सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन की शुरुआत होगी. उदयपुर रेलवे स्टेशन को ट्रांजिट-ओरिएंटेड डेवलपमेंट के सिद्धांत पर डिजाइन-बिल्ड-फाइनेंस-ऑपरेट और ट्रांसफर मॉडल पर पुर्नविकसित किया जायेगा. उदयपुर रेलवे स्टेशन का कुल क्षेत्रफल 4,98,115 वर्ग मीटर है. इसके पुनर्विकास के लिए अनुमानित लागत 132 करोड़ रुपये है. इसकी समय सीमा तीन साल रखी गई है.

125 स्टेशनों का पुनर्विकास किया जाना है
उल्लेखनीय है कि आईआरएसडीसी सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) परियोजनाओं के एक हिस्से के रूप में प्राइवेट प्लेयर्स की भागीदारी के साथ भारत सरकार की ओर से स्टेशन पुनर्विकास परिकल्पना के एजेंडे को चला रहा है. इस एजेंडे के तहत 125 स्टेशनों के पुनर्विकास पर काम जारी है. इसमें से आईआरएसडीसी 63 स्टेशनों पर काम कर रहा है. रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) 60 स्टेशनों पर और बाकी दो स्टेशनों पर रेलवे ही काम कर रहा है. वर्तमान अनुमानों के अनुसार रियल एस्टेट विकास के साथ-साथ 125 स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए कुल निवेश लगभग 50,000 करोड़ रुपये का है.

Leave a comment