shivganj : बैंक भवन की छत तोड़कर किया लॉकर रूम में प्रवेश, तीन लॉकर तोड़े

जागरूक टाइम्स 317 Mar 2, 2021

शिवगंज. सिरोही जिले के प्रमुख व्यापारिक शहर शिवगंज के गौशाला मार्ग स्थित भारतीय स्टेट बैंक में अज्ञात चोरों ने बैंक की छत में छेद कर लॉकर रूम में प्रवेश करते हुए तीन लॉकर तोड़ दिए। इसी लॉकर रूम में बैंक का खजाना भी थाए जो सुरक्षित बच गया है। लॉकर रूम से लॉकर तोड़ कर चोरी करने की जानकारी सोमवार को उस समय लगी जब बैंक कर्मियों ने बैंक को खोला। चोरी की इस वारदात से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। बहरहालए घटना की सूचना पुलिस को बैंक के शाखा प्रबंधक से मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू करते हुए चोरों की तलाश शुरू की है। पुलिस के अनुसार शनिवार और रविवार को बैंक का अवकाश रहने के बाद सोमवार की सुबह जब भारतीय स्टेंट बैंक के कर्मचारियों ने बैंक को खोला उस समय सब कुछ ठीक ठाक लगा। सफाई इत्यादि का कार्य होने के बाद जब रोजमर्रा की तरह बैंक का कामकाज शुरू हुआ और लॉकर रूम जहां बैंक की सारी नगदी जिसे बैंक का खजाना कहा जाता है। उसमें से रुपए बाहर लाने तथा लॉकर खोलने आए ग्राहकों के लॉकर खोलने के लिए शाखा प्रबंधक की मौजूदगी में जैसे ही लॉकर रूम खोला गया तो भीतर के हालात देख वहां मौजूद सभी भौचक्के रह गए। लॉकर रूम में जहां देखों छत से गिरा मलबा बिखरा पड़ा था। लॉकर टूटे हुए थे। उसके भीतर रखें लोगों के आवश्यक दस्तावेज एवं आवश्यक सामान जहां तहां बिखरा हुआ था। लॉकर रूम का मंजर देखते ही बैंक कर्मियों के पांवों के नीचे से जमीन खिसक गई। उन्हें यह समझने में देर नहीं लगी कि दो दिन के दौरान अज्ञात चोरों ने बैंक की छत जो आरसीसी से बनी हुई है में सेंध करते हुए लॉकर रूम में प्रवेश करते हुए चोरी की वारदात को अंजाम दे दिया है। बैंक में लॉकर तोड़कर चोरी होने की जानकारी बैंक के शाखा प्रबंधक ने तत्काल ही पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस निरीक्षक बुद्धाराम चौधरी मय दल तत्काल मौके पर पहुंचे तथा आवश्यक जानकारी जुटानी शुरू की। इस बीच पुलिस के उच्चधिकारियों को इसकी जानकारी मिलने में पुलिस उप अधीक्षक मदनसिंह भी शिवगंज पहुंचे तथा शाखा प्रबंधक एवं बैंक कर्मियों से आवश्यक जानकारी ली।

दो दिन में दिया वारदात को अंजाम
बैंक में शनिवार और रविवार को अवकाश होने की वजह से चोरों ने संभवत पहले रैकी करने के बाद चोरी के लिए इन दिनों को उपयुक्त समझते हुए आराम से वारदात को अंजाम दिया। भारतीय स्टेट बैंक की यह शाखा भूतल पर बनी हुई है। इसके ऊपर कोई अन्य भवन बना हुआ नहीं है। हालाकि छत पर जाने के लिए कोई सीढि?ा भी नहीं है। अंदेशा यह जताया जा रहा है कि चोरों ने बैंक की छत पर जाने के लिए बैंक की दीवार से लगती गोशाला की भूमि में लगे वृक्ष को छत पर जाने के लिए उपयोग किया। छत पर जाने के बाद जिस जगह पर लॉकर है ठीक उसी जगह पर एक आदमी भीतर उतरकर वापस बाहर आ सके इतना चौड़ा छेद किया गया। बताते हैं कि इसके लिए शायद गैस कटर का इस्तेमाल किया गया है। छत में छेद करने के बाद लॉकर रूम में उतरने का रास्ता साफ हो गया और चोरों ने लॉकर रूम में प्रवेश कर अवकाश होने की वजह से बड़े ही आराम से वारदात को अंजाम देते हुए तीन लॉकर तोड़ कर बेशकीमती जेवरात और नगदी पार कर लिए। हालाकि चोरों ने एक लॉकर ओर तोडऩे की कोशिश की थीए लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली।

चोरों ने तोड़ दी आरसीसी की छतए पर भनक तक नही लगी
बताते हैं कि आरसीसी की छत तोड़कर बैंक के लॉकर में घुसकर लॉकर जैसी सुरक्षित शेफ को तोड़ देने वाली शायद यह पहली वारदात होगी। बैंक की छत पर जाने के लिए कोई सीढि?ा भी नही हैं। फिर आखिर चोर कैसे छत पर कैसे पहुंचेघ् सबसे बड़ी बात आरसीसी से बनी इतनी मजबूत छत को तोडऩे में भी चोरों को बहुत वक्त लगा होगा। छत तोडऩे की आवाज भी हुई होगी। मगर ना तो सुरक्षा गार्ड जगाए ना ही इस दरम्यान पुलिस गश्त की गाडी इस तरफ आई और चोर छत तोड़कर बैंक के लॉकर तक पहुंच गए। मजबूत से मजबूत कहे जाने वाले लॉकर्स में से तीन लॉकर जिनके नंबर 22ए 68 तथा 80 हैए तोड़ दिएए सामान पार हो गयाए पर किसी को कानों कान खबर नहीं हुई। बैंक प्रबंधक की ओर से इन तीनें लॉकरों से कितनी नगदी व जेवरात की चोरी हुई उसकी जानकारी फिलहाल उपलब्ध नहीं करवाई गई है।

बैंक के बाहर लगा लोगों का मजमा
भारतीय स्टेट बैंक की गोशाला शाखा में सेंधमारी की वारदात होने तथा चोरों की ओर से लॉकर तोड़ कर कीमती जेवरात व नगदी पार कर ले जाने की जानकारी जैसे ही शहर में फैली वे लोग जिनके लॉकर बैंक में हैं उनकी सांसें मानो थम सी गई। देखते ही देखते बैंक के बाहर लोगों का मजमा लग गया। इनमें काफी संख्या में महिलाएं भी शामिल थी। बैंक के बाहर खड़ा हर शख्स यह जानना चाह रहा था कि आखिर कितने लॉकर और कौन कौन से लॉकर टूटे हैं। आखिरकार काफी देर बाद पुलिस उप अधीक्षक मदनसिंह ने बाहर आकर ग्राहकों को सूचना दी कि 22ए 68 और 80 नंबर लॉकर को तोड़ा गया है। तब जाकर वे लोग जिनके लॉकर सुरक्षित रहे उनकी सांस में सांस आई।

अंतर्राज्यीय गैंग का हो सकता है काम
सूत्र बताते हैं कि चोरी की इस पूरी वारदात के पीछे किसी अन्तर्राज्यीय गैंग का हाथ हो सकता है। संभव है कि इसमें कुछ स्थानीय लोग भी शामिल हो। हालाकि पुलिस सभी बिंदुओं पर अध्ययन कर अपनी जांच को आगे बढ़ा रही है। सोमवार को वारदात की जानकारी मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक भी शिवगंज पहुंचे तथा पुलिस अधिकारियों के साथ बैंक पहुंचकर वारदात स्थल का जायजा लिया तथा पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।

सुरक्षित है बैंक का खजाना
बैंक के प्रबंधक से यह सूचना मिली कि उनके बैंक के लॉकरों को तोड़ा गया है। एमओबी टीम को मौके पर बुलाया जाकर फिंगर प्रिंट उठाए गए हैं। बैंक में तीन लॉकरों को तोड़ा गया हैए एक लॉकर को तोडऩे का प्रयास किया गया है। बैंक में कुल 405 लॉकर हैए इनमें से काफी लॉकर ऐसे भी है जो आवंटित किए हुए नहीं है। बैंक की छत पर किसी प्रकार का निर्माण नहीं है। चोरों ने बैंक की छत को तोड़ते हुए बैंक के भीतर प्रवेश किया तथा वहीं से बाहर निकले है। इस लॉकर रूम में बैंक की बड़ी सेल्फ भी थी जो सुरक्षित है उसे किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है। पुलिस इस वारदात को अंजाम देने वालों की तलाश के लिए पूरे प्रयास कर रही है।
मदनसिंहए पुलिस उप अधीक्षकए सिरोही वृत

कैमरे का भी दिया धोखा
कहने को तो बैंक प्रबंधन ने बैंक की सुरक्षा के लिए बैंक के भीतर तथा बाहर कैमरे लगा रखे हैं। लेकिन तू डाल डाल मैं पात पात की कहावत को चरितार्थ करते हुए लॉकर के भीतर प्रवेश करने के लिए छत के रास्ते को चुना। उन्हें इस बात की जानकारी थी कि बैंक की छत और लॉकर रूम में कहीं भी कैमेरा लगा हुआ नहीं है। इसका नकबजनों ने पूरा फायदा उठाया और वारदात को अंजाम देकर रफूचक्कर हो गए।

लाखों की लागत से लगे कैमरों का औचित्य नहीं
वैसे तो नगर पालिका प्रशासन ने शहर के प्रमुख चौराहों पर अपराधों की रोकथाम के लिए कैमरे लगा रखे हैं तथा इसका कन्ट्रोल रूम पुलिस थाना में स्थापित किया हुआ है। विडम्बना है कि देखरेख के अभाव में अधिकांश चौराहों पर लगे ये कैमरे अब किसी काम के नहीं है। पिछले लंबे समय से नागरिकों की ओर से लाखों खर्च कर लगाए गए इन कैमरों को फिर से शुरू करने की मांग उठाई जा रही है। मगर पालिका प्रशासन की ओर से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।



Leave a comment