कोटा: 3 मासूमों से हैवानियत करने की सजा, अंतिम सांस तक जेल में रहेगा मिथुन उर्फ गजेन्द्र

जागरूक टाइम्स 227 Jan 19, 2021

कोटा. तीन बालिकाओं को अपनी हैवानियत का शिकार बनाने वाले एक दरिंदे (Rapist) को कोर्ट ने अंतिम सांस तक जेल की चारदीवारी में कैद रहने की सजा सुनाई है. कोर्ट ने अपने फैसले से साफ संदेश दिया कि ऐसे दरिंदे की समाज में कोई जगह नहीं है. उसे अब ताउम्र जेल में गुजारनी पड़ेगी यानी जब तक वह जिंदा रहेगा तब तक जेल की सलाखों के पीछे रहेगा.

विशिष्ट लोक अभियोजक सुरेंद्र वर्मा ने बताया कि मामला कोटा ग्रामीण के सिमलिया थाना इलाके का है. मिथुन उर्फ गजेन्द्र ने तीन बालिकाओं को अपनी हैवानियत का शिकार बनाया था. साल 2017 में 9 साल की एक बालिका से रेप के मामले में जब वह पकड़ा गया तो दो अन्य पीड़िताएं भी सामने आई थीं. सिमलिया थाना क्षेत्र में चल रहे एक भंडारे में 9 साल की बालिका गई थी. वह जब वहां से वापस लौट रही थी तो मिथुन बालिका को पकड़कर खंडहरनुमा जगह पर ले गया. वहां ले जाकर उसके साथ हैवानियत की. इस मामले में वह गिरफ्तार कर लिया गया था.

कोर्ट ने प्रकरण को रेयर ऑफ रेयर माना
बकौल वर्मा, इस मामले में 21 गवाहों के बयान पूरे होने के बाद सोमवार को कोटा की पोक्सो कोर्ट संख्या-5 ने आरोपी को दोषी करार देते हुए प्रकरण को रेयर ऑफ रेयर माना. कोर्ट ने अभियुक्त मिथुन को मरते दम जेल में रखने के आदेश दिये हैं. इसके साथ ही उस पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

वारदात के बाद दो मासूम नहीं जुटा पाई थीं हिम्मत
मिथुन उर्फ गजेंद्र ने क्षेत्र की ही दो अन्य मासूम लड़कियों के साथ भी हैवानियत की वारदात की थी, लेकिन दोनों पीड़िता वारदात के बाद इतनी डर गई थीं कि वे अपने परिवार को भी नहीं बता सकी थीं. जब तीसरी मासूम के साथ हैवानियत मामले में आरोपी को सिमलिया थाना पुलिस ने पकड़ा तो दोनों पीड़ितों ने भी अपने परिवार जनों को दरिंदे की दरिंदगी के बारे में बताया. इसके बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ तीनों वारदातों को लेकर मुकदमा दर्ज किया और कोर्ट से सख्त सजा दिलवाई.

Leave a comment