बिन बारिश शुरू हुआ सावन का महीना

जागरूक टाइम्स 955 Jul 29, 2018

-19 साल बाद बन रहा संयोग, पूरे 30 दिनों तक रहेगा सावन माह

जोधपुर @ जागरूक टाइम्स

सावन माह की शनिवार से शुरुआत हो गई। सावन माह का आखिरी दिन 26 अगस्त को होगा। इस साल का सावन बहुत खास संयोगों में बन रहा है। यह दुर्लभ संयोग 19 साल बाद बन रहा है। इस साल सावन पूरे 30 दिनों तक रहेगा। इस बार सावन 30 दिनों का होने के पीछे इस वर्ष अधिकमास पडऩे का कारण भी है। तीस जुलाई को सावन का पहला सोमवार रहेगा।

यह भी पढ़े : प्रदेश में 93 आरएएस, 34 आईपीएस और 4 आईएएस अधिकारियों के तबादले 

सावन का महीना शुरू होते ही शिवालयों में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा है। शहर के भीतर प्राचीनतम अचलेश्वर महादेव मंदिर, रातानाड़ा शिव मंदिर, पब्लिक पार्क में सार्वजनिक महादेव मंदिर, चांदपोल स्थित रामेश्वरनाथ, मंडलनाथ, भूतनाथ, बजरीगंगा महादेव आदि मंदिरों में दुग्धाभिषेक-जलाभिषेक किया जा रहा है। दूध, दही, घृत, शहद, चन्दन, बेलपत्र, गंगाजल से शिवलिंग का अभिषेक किए जा रहे हैं। मंदिरों में बम-बम भोले, हर-हर महादेव गुंजायमान हो रहे है।

त्योहारों की रहेगी बूूम 

सावन त्योहारों से भरपूर माह होगा। सावन मास 26 अगस्त को पूर्ण स्नानदान पूर्णिमा के साथ सम्पन्न होगा। इसी दिन रक्षाबंधन का त्योहार भी है। इस कारण दोनों पर्व एक ही दिन रहने पर काफी चहल पहल रहेगी। जिसका मुख्य कारण इस दिन रविवार भी होगा। इससे त्योहारों की महत्ता और भी ज्यादा बढ़ जाएगी। इस बार पहला सावन का सोमवार 30 जुलाई को, दूसरा 6 अगस्त, तीसरा 13 को, चौथा 20 अगस्त हो होगा। इन चारों सोमवारों में शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ नजर आएगी।

यह भी पढ़े : सिणधरी में देर रात महंत की हत्या, क्षेत्र के लोगों में खौफ 

हरियाली अमावस्या 11 को

11 अगस्त को हरियाली अमावस की धूम रहेगी। हरियाली अमावस भी शनिवार को है। जिसके कारण शनि मन्दिरों में भी भक्तों की भीड़ रहेगी। 14 अगस्त को सावन की तीज का पर्व होगा। इस दिन कुंवारी, नवविवाहिता व विवाहित महिलाओं में उत्साह रहेगा। कन्याओं के लिए यह दिन सिंजारा के नाम होगा। वहीं नवविवाहिताओं के लिए पहला सावन होने के चलते यह दिन अपने पीहर में ही मनाने की उत्सुकता रहेगी। 15 अगस्त को स्वतन्त्रता दिवस तथा नागपंचमी है।

यह है मान्यता

पंचांग के मुताबिक, इस बार सावन के कृष्ण पक्ष में दूज दो दिन 29 व 30 जुलाई को रहेगी। पिछले साल सावन 10 जुलाई से शुरू होकर 7 अगस्त तक 29 दिन का था। शिव भक्तों में सावन या श्रावण महीने का खास महत्व है। इस महीने में भगवान शंकर की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि सावन के महीने में सोमवार को व्रत रखने और भगवान शंकर की पूजा करने वाले जातक को मनवांछित जीवनसाथी प्राप्त होता है और जीवन में सुख-समृद्धि बढ़ती है। विवाहित महिलाएं यदि श्रावन महीने का सोमवार व्रत रखती हैं तो उन्हें भगवान शंकर सौभाग्य का वरदान देते हैं।

Leave a comment