भीलवाड़ा में जोधपुर से गया युवक निकला पॉजिटिव

जागरूक टाइम्स 132 Apr 20, 2020

जोधपुर। कोरोना संक्रमण से मुक्त हो देश-विदेश में मिसाल बना भीलवाड़ा एक बार फिर इसकी चपेट में आ गया है। भीलवाड़ा को इस बार जोधपुर से कोरोना का ग्रहण लगा है। जोधपुर में अपने माता-पिता से मिलने के बाद अनुमति लेकर भीलवाड़ा गया एक युवक करोना पॉजिटिव पाया गया है। इस युवक के पॉजिटिव पाए जाने के कारण भीलवाड़ा में प्रशासन की कवायद एक बार फिर बढ़ गई है। जोधपुर में इस युवक को अनुमति देने वाले अधिकारियों की लापरवाही अब कहीं भीलवाड़ा पर भारी पड़ती नजर आ रही है। इसे अनुमति देने वाले अधिकारियों की जांच की जा रही है।

जोधपुर शहर के हॉट स्पॉट बने नागौरी गेट क्षेत्र में रहने वाला एक युवक 14 अप्रेल प्रशासन से विशेष अनुमति लेकर अपनी पत्नी व बेटे के साथ भीलवाड़ा गया। भीलवाड़ा की सीमा पर इस युवक को रोक दिया गया और जांच की गई। इसके बाद इसे होम क्वारैंटाइन कर दिया गया। भीलवाड़ा प्रशासन ने इस पर लगातार नजर बनाए रखी। शनिवार को इसमें कोरोना वायरस के लक्षण नजर आते ही इसे अस्पताल में भर्ती कर सैंपल लिया गया। आज जांच रिपोर्ट में यह पॉजिटिव पाया गया। अब इसके परिजनों को भी अस्पताल ले जाकर जांच की जा रही है। वहीं जोधपुर में भी इसके माता-पिता की जांच की जा रही है। जोधपुर के अशोक नगर क्षेत्र में रहने वाला यह 28 वर्षीय युवक भीलवाड़ा में लकड़ी का कारोबार करता है।

भीलवाड़ा में यह युवक विजय सिंह पथिक नगर में किराए का मकान लेकर रहता है। लॉक डाउन से पहले यह अपने माता-पिता से मिलने पत्नी व बेटे के साथ यहां आया था। लॉकडाउन के कारण यह यहीं फंस गया। 14 अप्रेल को इसे भीलवाड़ा जाने की अनुमति प्रशासन ने जारी की। जबकि इसके माता-पिता को बुजुर्ग होने के कारण यात्रा की अनुमति प्रदान नहीं की गई। जोधपुर जिला प्रशासन यहां से अन्य जिलों या राज्यों में जाने के लिए यात्रा अनुमति प्रमाण पत्र जारी करने को अधिकृत है। ऐसे में अब यह सवाल उठ रहा है कि कोरोना के लगातार मामले सामने आने के बीच एक युवक को बगैर जांच किए किस आधार पर यात्रा करने की अनुमति पत्र जारी किया गया जबकि कई मामलों में प्रशासन यहां से लोगों को बाहर भेजने से पहले उनकी कोरोना जांच करवा रहा है।

इस मामले में बरती गई लापरवाही ने भीलवाड़ा प्रशासन की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया है। कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रहे राजस्थान के लिए भीलवाड़ा ने शुक्रवार को बड़ी राहत दी थी। राज्य का कोरोना संक्रमण का सबसे पहला हॉटस्पॉट बना भीलवाड़ा तीन दिन पूर्व ही कोरोना संक्रमण मुक्त हुआ था। अस्पताल में भर्ती दो कोरोना मरीज की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। जिले में अब तक 28 पॉजीटिव मरीजों में से 2 की मौत हो चुकी थी। शेष सभी ठीक होकर अपने घर लौट गए थे।

भीलवाड़ा में कोरोना का पहला मरीज सामने आते ही जिला कलेक्टर राजेन्द्र भट्ट ने कफ्र्यू लागू कर व्यापक स्तर पर जांच करवा कर देश के सामने अनुकरणीय उदाहरण पेश किया। इसके बाद 3 अप्रेल से महा कफ्र्यू लागू कर दिया गया। लगातार सर्वे कर लोगों की जांच की गई। इस कारण तीन दिन पूर्व भीलवाड़ा पूरी तरह से करोना संक्रमण मुक्त हो गया था, लेकिन आज नए मरीज ने उनकी दिक्कतें बढ़ा दी है।


Leave a comment