Jalore : साबरमती में समा गई 'आयशा', बोली- अब नहीं जीना, बच गई तो ले जाना, वरना...

जागरूक टाइम्स 531 Mar 3, 2021

Jalore: अहमदाबाद में एक महिला द्वारा आत्महत्या की एक ऐसी घटना सामने आयी है, जिसके बारे में जानकर किसी का कलेजा भी कांप उठेगा. एक शादीशुदा महिला ने पहले वीडियो बनाया और साबरमती में आत्महत्या कर ली. अहमदाबाद के वटवा इलाके में रहने वाली आयशा मकरानी 25 फरवरी के दिन रिवरफ्रंट साबरमती नदी में छलांग लगा दी. आत्महत्या करने से पहले उसने अंतिम वीडियो बनाया, जिसमें उसके पति को आजाद कर रही है, इस तरह हंसते -हंसते वीडियो बनाया और मौत को गले लगा लिया. आयशा के आत्महत्या करने की खबर सुनंने के बाद लाखों परिवार सकते आ गए हैं. मरने से पहले आयशा ने अपने माता-पिता से बात की थी. इस ने अपने मां-बाप से मरने के लिए इजाजत मांगी थी. आयशा मकरानी की आत्महत्या केस में उसके पिता लियाकत अली ने रिवरफ्रंट पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई है, जिसमें अपनी बेटी आयशा उर्फ़ सोनू की शादी साल 2018 में राजस्थान के रहने वाले आरिफ खान के साथ हुयी थी. शादी के बाद आयशा के ससुराल वाले और उसका पति दहेज़ के लिए तंग करते थे. साल 2018 के दिसंबर महीने में उसका पति दहेज़ मांगकर झगड़ा किया और आयशा को उसके मायके रख गया. बाद में समाज के लोगों ने इकठ्ठा होकर समाधान किया और आयशा फिर से अपने ससुराल चली गयी लेकिन फिर से साल 2019 में आयशा को उसके ससुराल वाले मायके रख गए और आयशा अपने मां-बाप के साथ रहने लगी.

बाद में आयशा का पति इनके घर आया और दहेज़ के डेढ़ लाख रूपये लेकर चला गया. आरिफ फिर एक बार आयशा को लेकर तो गया लेकिन कुछ ही दिनों में वापस मायके में रख गया. इसके बाद आयशा ने अपने ससुराल वालों के खिलाफ शिकायत कर डोमेस्टिक वायलेंस का केस किया. आयशा की आत्महत्या के दिन भी आरिफ ने आयशा फोन कर आयशा को मर जाने और वीडियो बनाने के लिए उकसाया था, इसलिए परिवार अब इसके लिए कड़ी सजा की मांग कर रहा है.

अहमदाबाद में रहने वाले और पेशे से टेलर आयशा के पिता लियाकत अली ने बताया, 'बेटी का निकाह 2018 में जालौर (राजस्थान) में रहने वाले आरिफ खान से हुआ था, लेकिन शादी के बाद से ही उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाने लगा था.' 'शादी के कुछ महीनों बाद ही आरिफ दहेज की मांग करते हुए आयशा को मायके छोड़ गया था. बाद में रिश्तेदारों के समझाने पर आयशा को अपने साथ लेता गया था, लेकिन 2019 में फिर से उसे हमारे पास (माता-पिता) छोड़ गया था. आरिफ और उसके घर वाले डेढ़ लाख रुपये की मांग कर रहे थे. किसी तरह पैसों का इंतजाम कर उन्हें दे भी दिया था.'

लियाकत अली का कहना है कि पैसे देने के बाद आरिफ के परिवार का लालच बढ़ता गया. कुछ महीनों पहले आरिफ फिर से आयशा को अहमदाबाद छोड़ गया था. आरिफ तो आयशा से फोन तक पर बात नहीं करता था. कुछ दिनों पहले आयशा ने गुस्से में खुदकुशी करने की धमकी दी. इस पर आरिफ ने जवाब दिया कि मरना है तो जाके मर जा. इसी बात से आयशा आहत थी और आखिरकार उसने आत्महत्या कर ली.

आयशा के आत्महत्या केस में रिवरफ्रंट वेस्ट पुलिस ने जांच की तो यह पता चला की आयशा द्वारा मरने से पहले बनाये गए वीडियो को उसके पति को भेजा था. पति और ससुराल वालो द्वारा आयशा को परेशांन करके आत्महत्या के लिए मजबूर करने के सबूत के आधार पर पुलिस द्वारा मामला दर्ज कर लिया गया है और उसके पति की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक टीम राजस्थान भेज दी है.




Leave a comment