जालोर का एक यातायातकर्मी बना तिरछी टोपी वाला !

जागरूक टाइम्स 1416 Jun 24, 2018

जालोर। वर्दीधारी के लिए वर्दीभी अनुशासन का एक भाग और पहचान होती है, लेकिन जालोर में गर्मी के कारण एक यातायात कर्मी तिरछी टोपी वाला बन गया है। टोपी उसके सिर पर रहती जरूर है, लेकिन बेतरतीब रूप से। हालांकि चौराहों पर गर्मी के कारण इनकी हालत भी खस्ता हो जाती है।

गौरतलब है कि हर चौराहों पर यातायात कर्मी दिनभर ड्यूटी बजाते रहते हैं। गर्मी हो या सर्दी या फिर बारिश, यातायात कर्मियों को ड्यूटी बजानी पड़ती है। हालांकि इस दौरान उन्हें वर्दी में रहना पड़ता है। लेकिन गर्मी और उमस के कारण एक यातायात कर्मीकी टोपी अक्सर तिरछी हो जाती है। यह उमस या गर्मी का प्रभाव है या फिर फितरत बन गई है। लेकिन चालान काटने के दौरान भी तिरछी टोपी इस यातायात कर्मीकी स्टाइल बन गई है।

उमस से बेहाल रहते हैं यातायात कर्मी
तिरछी टोपी के मुद्दे को पूरा नेगेटिव नहीं लेकर उमस से भी जोड़ा जा सकता है। हालांकि इसके लिए खबर को भी थोड़ा तिरछा करना पड़ रहा है। उमस के कारण जहां कूलर और पंखे भी जवाब दे चुके हैं। इधर सूरज की गर्मीभी हालात खराब कर रही है। ऐसे मेें बिना छांव और तपती हुईसडक़ों के किनारे खड़े इन यातायातकर्मियों की हालत चिंता जनक बन हुई है।

कोई काम की नहीं है सर्किल पर लगी घुमटिया
जालोर शहर में मुख्य सर्किल पर यातायात कर्मियों के लिए बनाई गई घुमटिया भी कोईकाम नहीं आ रही है। सिर्फ औपचारिकता के रूप में इन्हें सडक़ों के बीच लगा दिया गया है। मानो कोईप्रतीक स्वरूप पुतला लगा दिया गया है। इन घुमटियों के बीच यातायातकर्मीढंग से खड़ा भी नहीं रह सकता है। धूप से बचने के लिए कोईसुविधा नहीं है।

Leave a comment