सांचौर : मानसिक विक्षिप्त महिला को ईलाज के लिये प्रशासन ने भिजवाया जोधपुर

जागरूक टाइम्स 270 Jun 10, 2021

सांचौर : क्षेत्र के कारोला सरहद में मानसिक रूप से मानसिक विक्षिप्त महिला घर का रास्ता भटक कर दूर खेतों में चली जाने वह रात्रि में एक जाल के पेड़ पर बैठी रही, उक्त खबर को जागरूक टाईम्स में प्रमुखता से प्रकाशित करने के बाद प्रशासन हरकत में आया और पीडि़त महिला कोु ईलाज के लिये जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पातल के लिये भिजवाया। पत्रिका ने पांच साल से ज्यादा वक्त से मानसिक रूप से बीमार महिला का बने नारकीय जीवन व उसके द्वारा रात्रि को घर से निकल कर पेड़ पर रात्रि गुजारने के साथ ही उसके पैरो में बंधी जंजीर को प्रमुखता से उठाया, मानवीयता से जुड़े मुददे के प्रकाश में आने के बाद प्रशासन ने त्वरित कार्यवाही करते हुए महिला के ईलाज की संपूर्ण व्यवस्था प्रशासनिक स्तर पर करने की बात कहते हुए उसे १०८ एम्बुलैंस की सहायता से जोधपुर के लिये बुधवार को रवाना कर दिया। इस दौरान महिला के परिजनो ने प्रशासन के साथ- साथ पत्रिका का भी आभार जताया।

कई स्वयं सेवी संस्थाऐं भी सहायता को आई आगे - मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला विमला देवी जिसके दो पुत्रिया व एक पुत्र है , ऐसे में वह अपने बच्चो की भी देंखभाल नहीं कर पा रही है। जिसको लेकर जागरूक टाईम्स में प्राथमिकता से खबर प्रकाशित होने के बाद मान सेवा समिति ने पहल करते हुए विमला के नि:शुल्क ईलाज की पहल करते हुए उसका समस्त खर्चा उठाने की बात कही है। समिति के प्रकाश छाजेड़ ने बताया कि मानवता से जुड़े इस मुददे के लिये पूर्ण रूप से तत्पर है। वहीं महिला के ईलाज को लेकर वह पूर्ण रूप से सहयोग देने को तैयार है।

इनका कहना है -
मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला का नि:शुल्क ईलाज होगा, जिसके लिये उन्हे जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल भिजवाया गया है, वहीं इस प्रकार के अगर ओर कोई भी मरीज हो जो मानसिक रूप विक्षिप्त हालात में हो तो उनको भी नि:शुल्क ईलाज के लिये प्रशासन व्यवस्था करेगा, जिसके लिये राज्य सरकार ने प्रावधान भी कर रखा है। इसके अतिरिक्त ऐसे कई लोग जिनका ईलाज संभव नहीं है उनके लिये भरतपुर में अपना घर नाम से आश्रम बना हुआ है जहां पर उचित देखभाल की जाती है। वहां भी भेजा जा सकता है। भूपेन्द्र यादव, उपखंड अधिकारी सांचौर




Leave a comment