रानीवाड़ा : दरिन्दों को मिले फांसी की सजा - देवल

जागरूक टाइम्स 306 Oct 20, 2020

रानीवाड़ा। विधायक नारायण सिंह देवल ने कहा कि जिस देश में नारी को पूजा जाता है और माँ का रूप मानकर नवरात्री के दिनों में कन्या पूजन किया जाता है, उसी नवरात्री के दिनों में जालोर जिले के सबसे बड़े तीर्थस्थल सुन्धामाता मंदिर क्षेत्र के निकटवर्ती गांव राजपुरा सरहद में खाण्डादेवल निवासी दो बालिकाओं के साथ सामुहिक दुष्कर्म की घटना मन को झकझोरने वाली है। पीडि़ताओं का ईलाज कर रहे भीनमाल के भूपेन्द्र हॉस्पिटल में जाकर रानीवाड़ा विधायक नारायणसिंह देवल ने परिजनों से मुलाकात की और उन्हें आश्वस्त किया कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जायेगी। ऐसा घिनौना कृत्य करने वाले चाहे किसी भी समाज, धर्म या जाति के लोग हो, वो इंसान ना होकर इंसानियत के नाम पर कलंक हैं, उन्हें फांसी से कम सजा मंजूर नहीं होगी।

देवल ने पत्रकार वार्ता में राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेष में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। महिला उत्पीडन के मामलों में 80 प्रतिषत की बढ़ोतरी हुई है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के हाल ही में जारी 2019 के आंकडों में राजस्थान देश में महिला उत्पीडन के मामलों में नम्बर वन प्रदेश बन गया है। सरकार केवल कागजों में चल रही है। मुख्यमंत्री स्वयं गृहमंत्री हैं, लेकिन अपराध पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। विधायक देवल के हॉस्पिटल पहुंचकर पीडि़ताओं के परिजनों से मुलाकात के दौरान जिला पुलिस अधीक्षक श्यामसिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सांचौर दशरथ सिंह, भीनमाल पुलिस उप अधीक्षक शंकरलाल एवं भीनमाल थानाधिकारी अवधेश सांधू अस्पताल पहुंचे और विधायक को घटना की विस्तृत जानकारी दी। विधायक देवल ने पुलिस अधीक्षक से कहा कि अपराधियों को कडी से कड़ी सजा दिलाओ। इसके बाद विधायक देवल ने पीडि़ताओं के परिजन ऊकसिंह से भी घटना की विस्तृत जानकारी ली। इस दौरान देवल के साथ राजूसिंह राजपुरा, नरपतसिंह मालवाड़ा, डॉ भूपेन्द्र चौधरी, डॉ रमेश देवासी भी मौजूद रहे।


Leave a comment