बाजरा की फसल को मिला जीवनदान, एक घंटे बरसे बदरा

जागरूक टाइम्स 1098 Jul 15, 2018

बागोड़ा @ जागरूक टाइम्स

अच्छे जमाने की आस में उपखंड क्षेत्र के गांवों में गत कई दिनों पहली बारिश के बाद बोई बाजरे की फसल पानी के अभाव में जलने के कगार पर पहुंची थी, लेकर रविवार की सुबह हुई बारिश ने फसल को जीवनदान दिया है। कई दिनों से मेहबाबा की बाट जोह रहे धरतीपुत्रों के चेहरों पर रौनक लौट आई है। 

कस्बे समेत रंगाला, खोखा, जैसावास, चैनपुरा, मोरसीम, धुम्बड़िया, नरसाणा, राह, कालेटी, दामण एवं समूचे क्षेत्र में पहली बारिश होने पर किसानों ने अपने खेतों में अच्छे जमाने की आस में जुताई कर बाजरे समेत अन्य फसलें बोई थी, लेकिन गत पन्द्रह दिनोंं से ज्यादा समय गुजरने के बाद भी इन्द्र देवता की मेहरबानी नहीं होने से खेतों मेंं अंकुरित बाजरे की फसल दम तोड़ने लगे थे। वहींं हजारों रुपए बीज व खड़ाई मे खर्च करने से किसानों के चेहरों पर मायूूसी छा गई थी, लेकिन रविवार की सुबह धरतीपुत्रों के लिए जले पर मरहम लगाने की कहावत साबित हुई। प्रातः साढे़ नौ बजे से मेहबाबा की मेहर इस कदर हुई की खेतोंं में जलने के कगार पहुंची बाजरा की फसल को करीब एक घंटे तक पानी ने तरबतर कर दिया। खेत-खलिहानों, सड़कों एवं नालों में पानी बहने से ताल तलैया नजर आए। बारिश से लोगों को उमस से राहत मिली। वहीं खेतों मेंं पशुओं के लिए चारा होने की उम्मीद जगी है। सुबह दस बजे से तेज बारिश का दौर शुरू हुआ।

Leave a comment