बागोड़ा : गांव में नेटवर्क नहीं मिलने से शहर जाकर करनी पड़ती है पढाई

जागरूक टाइम्स 341 Jan 4, 2021

रिड़मलदान राव

बागोड़ा। कोरोनाकाल में महाविद्यालय व स्कूलें बंद है ऐसे में कई स्कूलों व कॉलेजों ने ऑनलाइन क्लास शुरू की है, मगर बागोड़ा तहसील के नवापुरा धवेचा गाँव के चौधरियों की ढाणी निवासी शंकर आँजणा के लिए ऑनलाइन क्लास परेशानी का सबब बन गई हैं। इसकी वजह गाँव मे नेटवर्क नहीं होना है। मौलाना आजाद मुस्लिम टीचर ट्रेनिग जोधपुर कॉलेज का विद्यार्थी होने के कारण क्लास अटेंड करना जरूरी है। इसलिए घर से सौ किलोमीटर दूर जालोर शहर में रूम किराये लेकर रूम में टेबल कुर्सी लगाकर पढ़ाई करनी पड़ रही हैं।

शंकर के पिता डायाराम का कहना है कि तीन-चार माह से जालोर में रूम लेकर पढ़ाई करवा रहे हैं। और स्टूडेंट शंकर का कहना है कि पढ़ाई जीवन के लिए महत्वपूर्ण है पढ़ाई के बिना जीवन में कुछ भी सम्भव नहीं है। आज के दौर में जितना पढ़ाई का महत्व है उतना और किसी का नही हो सकता। शंकर का कहना है कि मेरे पिताजी का एक सपना है कि मेरा बेटा एक गवर्नमेंट जॉब पर लगे और गाँव, तहसील व जिले और मेरे समाज का नाम रोशन करे। शंकर ने विधार्थियों को भी अपने भाव साझा करते हुए कहा "कि हमें स्कूल, कॉलेज या खाली समय मे सिर्फ और सिर्फ अपनी पढ़ाई पर ही ध्यान देना चाहिए और इसका बंटवारा भी नही होता है वरना बाद में पछताने के अलावा कोई सहारा नही रहेगा।



Leave a comment