राजस्थान : IT डिपार्टमेंट का बड़ा खुलासा, ज्वैलर ने घर में सुरंग बना छुपा रखा था डिजिटल डेटा

जागरूक टाइम्स 151 Jan 23, 2021

जयपुर. प्रदेश में गत चार दिन से तीन कारोबारी समूहों के विभिन्न ठिकानों पर चल रही आयकर छापों और सर्वे की कार्रवाई में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. चार दिन से आयकर विभाग की करीब 40 टीमें में 200 अधिकारी-कर्मचारी काला धन खोद-खोदकर निकालने में जुटे हैं. 19 जनवरी को तड़के 4 बजे शुरू हुई इस कार्रवाई में अब तक करीब 1400 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति का खुलासा हो चुका है. केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड अनुसार इनमें दो बिल्डर और एक ज्वैलर शामिल हैं.

इन कारोबारियों के कुल 31 ठिकानों कार्रवाई की जा रही है. इनमें 20 ठिकानों पर रेड डाली गई है और 11 ठिकानों पर सर्वे की कार्रवाई की जा रही है. इनमें काला धन मिलने के दौरान सबसे चौंकाने वाला खुलासा ज्वैलरी कारोबारी के यहां हुआ है. इस कारोबारी के घर में एक सुरंग मिली है. उसमें इसने अपने काले धन से जुड़े डिजिटल डेटा को छिपा रखा था. इसके लिये एक कमरे में एक दीवार के आगे दूसरी दीवार खड़ी की गई थी. दोनों दीवारों के बीच के भाग को खोदकर गहरा कर दिया था. उसके बाद उसमें काले धन की गवाही देने वाले डिजिटल डेटा को छिपाया हुआ था.

ज्वैलर के ठिकानों पर छापे की कार्रवाई में भारी मात्रा में बेशकीमती प्रैशियस और सैमी प्रैशियस स्टोन्स, सोने-चांदी की ज्वैलरी , एंटिक आभूषण, हस्तशिल्प, कालीन और कपड़ों का बड़ा भंडार मिला है. इस कारोबारी के घर में बनी गुफा में पिछले छह साल में किए सोने और चांदी के आभूषणों के बेहिसाब निर्माण और विक्रय का काला चिठ्ठा मिला है. जबकि गुफा के अंदर ही 15 करोड़ रुपये से ज्यादा की बेनामी संपत्ति से संबंधित दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं. हैरानी की बात ये है की इस कारोबारी द्वारा न तो आयकर रिटर्न में ये इनकम और कारोबार को दर्शाया गया है और न ही बही-खातों में इनका इंद्राज किया गया है.

सीक्रट कोड्स को डीकोड करने में लगी टीम
ज्वैलर के घर स्थित गुफा में मिले दस्तावेजों में अल्फा-न्यूमेरिक सीक्रेट कोड के भारी पैमाने पर दस्तावेज मिले हैं. इन सीक्रेट कोड में ही कारोबारी के प्रत्येक आइटम की वास्तविक बिक्री की कीमत छुपी हुई है. आयकर विभाग की टीमें इन सीक्रेट कोड्स को डीकोड करने में जुटी हुई हैं. गुप्त गुफा से दो हार्ड-डिस्क और कई पेन-ड्राइव भी जब्त किए गए हैं. आयकर अधिकारी आईटी एक्सपर्ट से हार्ड डिस्क और पेन ड्राइव के डेटा की डिटेल को निकलवा रहे हैं. इस कारोबारी समूह के ठिकानों से मिले दस्तावेजों में विदेशी यात्रियों को बड़ी कीमतों पर बेची गई ज्वैलरी का खुलासा हुआ है. वहीं नियम विरुद्ध 122 करोड़ रुपये का नकद लोन लेने के दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं. समूह से ठिकानों से अब तक 525 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति के दस्तावेज जब्त किए जा चुके हैं.



Leave a comment