सिलोईया में वागनाला एनीकट टूटने से गहराया पेयजल संकट

जागरूक टाइम्स 293 Jun 15, 2021

वेलांगरी। सरतरा ग्राम पंचायत के सिलोईया कस्बे का मुख्य जल स्रोत वागनाला एनीकट है। भूमिगत जल का स्तर इसी स्त्रोत के वजह से रहता था। इस वागनाले से सरतरा एवं सिलोईया कस्बे के वाशिंदों को पेयजल के नलकूपों के साथ कृषकों का मुख्य भूमिगत जल स्त्रोत है। विगत दिनों में एनीकट के निर्माण के बाद से सिलोईया कस्बे में पानी की कोई समस्या नही रही, लेकिन विगत 2017 में अतिवृष्टि के कारण एनीकट में भराव क्षमता से अधिक पानी आने से सुरक्षा दीवार टूट गई। ग्रामवासियों द्वारा समय-समय पर जनप्रतिनिधियों को अवगत कराया और कई बार ज्ञापन भी दिया गया और मौके पर ले जाकर प्रत्यक्ष रूप से बताया गया। लेकिन आज तक इसकी स्थिति जस की तस बनी रही ह।

इस मुख्य जलस्रोत की मरम्मत की स्वीकृति नही होने से सिलोईया सरतरा के किसान बहुत निराश है। ग्रामीण नारायण लाल चौधरी, रामसिंह झाला, मंगलसिह राजपुरोहित, लादुराम राजपुरोहित, भरत राजपुरोहित आदि ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि इस गांव की मुख्य समस्या को जल्द से जल्द हल करें ताकि पशुपालको, कृषकों के साथ गांव के समस्त निवासियों को राहत मिल सके तथा इस धरती का जलस्तर बढे एवं सिलोईया और सरतरा के ग्रामीणों को इसका लाभ मिल सके।

भूमि का जल स्तर बढ़ाने में यह एनीकट मुख्य सहायक है, इसलिए सभी ग्राम वासियों की मुख्य मांग है कि पशुपालकों और जंगल में रहने वाले जीव जंतुओं के लिए हलक तर करने का स्रोत भी बन जाए। समाजसेवी नारायण चौधरी ने बताया कि सरपंच को भी उक्त समस्या से ग्रामीणों ने अवगत कराया है। साथ ही युवा सामाजिक कार्यकर्ता व वरिष्ठ पत्रकार सुरेश पुरोहित जुगनू वलदरा ने उक्त वाघनाला एनीकट की मरम्मत को लेकर गत वर्ष जिला कलेक्टर विधायक एडीएम सीईओ बीडीओ आदी से व्यक्तिगत मुलाकात कर ज्ञापन सौंपकर तत्काल प्रभाव से मरम्मत करवाने की मांग रखी थी। ग्रामीणों ने बताया कि वाघनाला एनीकट के टूटने से गांव का जल स्तर दिनों-दिन नीचे जा रहा है जिससे गांव में पेयजल संकट के साथ साथ पशु-पक्षीओ व खेती के लिए किसानों को भारी मुसीबते झेलनी पड़ रही है।.


Leave a comment