प्रवासी राजस्थानियों के लिए ऑनलाइन कार्यक्रम का हुआ आयोजन

जागरूक टाइम्स 401 Dec 14, 2020

राजस्थान की संस्कृति से जोडऩे का अनूठा प्रयास चल मेरी ढ़ोलकी धमाक धम

जयपुर (ईएमएस)। राजस्थान फाउंडेशन ने प्रवासी राजस्थानियों के लिए यहां एक ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजन किया जो प्रवासी परिवारों के बच्चों पर केन्द्रीत था। राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि फाउंडेशन का काम प्रवासियों को उनके माटी से जोडऩा है। उन्होंने बताया कि हमने कई बार देश विदेश में बैठे प्रवासियों से बात की है और हमे बताया गया है कि वे चाहते है कि नई पीढ़ी भी अपने प्रदेश की संस्कृति को जाने इसलिये हमने बच्चों को उनकी माटी की लोककथा सुनाने का एक अनूठा प्रयास किया है।

उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में करीब 150 बच्चें ऑनलाइन रूम पर से जुडें़ और हजारों ने फेसबुक पर इसे लाईव देखा। प्रवासी बच्चो ने बहुत उल्लास के साथ इस कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर आयुक्त ने ऑनलाइन बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राजस्थान की लोककथाये देश विदेश में बहुत ही मशहूर है, उन्ही में से एक लोककथा व बिज्जी की कहानिया घर घर में जानी जाती है उनमे से एक कहानी हम बच्चो को सुना रहें है। कार्यक्रम में सीमा मूंदरा जो अमेरिका से ऑनलाइन जुडी थी, उन्होने बडे मज़ेदार ढंग से लोक कथा सुनाई, चल मेरी ढोल की धमाक धम। कार्यक्रम में कैलाश कबीर देथा और कुलदीप कोठारी भी जुड़े.कोमल कोठारी ने बच्चो को बताया की अर्ना झरना संग्रहालय में राजस्थान के जनजीवन, पर्यावरण, एवं प्रदर्शनकारी कलाओं की स्थायी एवं अस्थायी झांकियां संजोई गयी हैं। उन्होंने संगीत वाद्यों, कठपुतलियों, आभूषणों, लोकनाट्यों, माह्कव्यों, लोक देवताओं पर विस्तृत अनुसन्धान किया।


Leave a comment