जयपुर। शराब ठेकेदार की करतूत, वेतन मांगने पर जिंदा जलाया

जागरूक टाइम्स 117 Oct 27, 2020

जयपुर। राजस्थान में अपराधी बेखौफ है। करौली जिले में पुजारी को पेट्रोल छिड़क कर जिंदा जलाने के बाद अब अलवर जिले के कूमपुर गांव में शराब की दुकान के सेल्समैन को जिंदा जलाने का मामला सामने आया है। शराब की दुकान पर कार्यरत सेल्समैन दलित समाज से आता है। सेल्समैन पर कथित रूप से पेट्रोल या शराब छिड़ककर जिंदा जलाने की बात सामने आई है। घटना के बाद दलित समाज में जबर्दस्त आक्रोश फैला हुआ है। दलित समाज ने आंदोलन की चेतावनी दी है। सेल्समैन को जिंदा जलाने का आरोप दो शराब ठेकेदारों सुभाष और राकेश यादव पर लगा है। घटना को अंजाम देने के बाद वे दोनों फरार हो गये। पुलिस का कहना है कि मौके पर एफएसएल टीम बुलाकर जांच कराई गई है। मामले में और साक्ष्य जुटाने के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी। दुकान की चाबी मृतक के पास ही मिली है। खैरथल पुलिस थाना अधिकारी दारा सिंह ने बताया कि कूमपुर गांव में एक शराब की दुकान में शनिवार रात को आग लगने से वहां कार्यरत झाड़का निवासी सेल्समैन कमलकिशोर (22) की जिंदा जल जाने से मौत हो गई थी।

मृतक के भाई रूप सिंह ने इस संबंध में खैरथल पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया है। उसने रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि कमलकिशोर सुभाष और राकेश यादव की शराब की दुकान पर सेल्समैन था। दोनों पिछले पांच माह से उसे वेतन नहीं दे रहे थे। वेतन मांगने पर उससे मारपीट की जाती थी। शनिवार को कमलकिशोर दुकान बंद करने के बाद घर आया और कुछ ही देर बाद सुभाष व राकेश यादव आ गए। दोनों उसे अपने साथ ले गए। पूरी रात कमल किशोर घर नहीं आया। रविवार को पता चला कि शराब की दुकान में आग लग गई और कमल किशोर की उसमें जिंदा जलने से मौत हो गई। इस पर परिजन मौके पर पहुंचे तो शव डीप फ्रीजर में बैठी हुई हालत में मिला। रूप सिंह ने आरोप लगाया कि सुभाष और राकेश यादव ने ही उस पर पेट्रोल या फिर शराब छिड़कर जिंदा जलाया। पुलिस ने दोनों के खिलाफ हत्या करने और एससीएसटी एक्ट की विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

>> परिजनों ने की न्यायिक जांच की मांग
वारादात से नाराज परिजन न्यायिक जांच की मांग करते हुए पोस्टमॉर्टम नहीं कराने पर अड़ गए। हालांकि डीएसपी और थानाधिकारी की समझाइश के बाद रविवार को एक मेडिकल बोर्ड ने पोस्टमॉर्टम किया। डीएसपी ताराचंद ने बताया कि मामला गंभीर और संदिग्ध है। फॉरेंसिक टीम भी घटनाक्रम और मौके की पड़ताल कर रही है।

>> दलित समाज एकजुट
घटना के खिलाफ अलवर जिले का दलित समाज एकजुट हो गया और घटना की न्यायिक जांच की मांग की है । दलित समाज ने सुभाष और राकेश यादव की गिरफ्तारी की भी मांग की है। जानकारी के अनुसार शराब की दुकान पक्की निर्मित दुकान में ना चला कर एक लोहे के कंटेनर में चलाई जा रही थी जो कि नियमों के विपरित है। दुकान में सीसीटीवी कैमरे भी नहीं थे। पुलिस उप अधीक्षक ताराचंद ने बताया कि मामला गंभीर है,जांच शुरू करने के साथ ही दोनों फरार लोगों को पकडऩे के प्रयास किये जा रहे हैं। पुलिस टीम गठित की गई है।


Leave a comment