मुंबईकरों को चिंता- घरेलू कर्मी काम पर आएंगे या नहीं, BMC आयुक्त से मांगा जवाब

जागरूक टाइम्स 186 Apr 14, 2021

मुंबई. महाराष्ट्र के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कड़ी पाबंदियों की घोषणा की है. ऐसे में मुंबई में रहने वाले लोगों के लिए घरेलू कर्मियों  का संकट गहरा गया है. रहवासियों को चिंता है कि उनके घर पर काम करने वाले पहुंच पाएंगे या नहीं. इस बात की जानकारी बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन यानि बीएमसी (BMC) के आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने दी है. हालांकि, उन्होंने घरेलू कर्मियों को काम करने के लिए हरी झंडी दे दी है. साथ ही बताया कि इसके संबंध में गाइडलाइंस बुधवार को जारी की जाएंगी.

चहल ने कहा, 'क्या मेरे घर में काम करने वाले आएंगे, जब से जनता कर्फ्यू की घोषणा हुई है, तब से ही मुंबईकर मुझसे यह सवाल कर रहे हैं. मुझे इसके संबंध में कई कॉल मिले.' उन्होंने जानकारी दी, 'बीएमसी इसके संबंध में कल गाइडलाइंस जारी करेगी.' साल 2016 में हुई एक स्टडी 'फीमेल माइग्रेंट्स इन इंडिया' के आंकड़े बताते हैं कि 54.9 फीसदी प्रवासी महिलाएं घरेलू कर्मचारी के तौर पर काम कर रही हैं.
यह भी पढ़ें: Maharashtra Curfew: महाराष्‍ट्र में आज रात से 30 अप्रैल तक सख्‍त कर्फ्यू, यहां जानिये क्‍या रहेगा खुला और क्‍या बंद
मंगलवार शाम सोशल मीडिया के जरिए राज्य के सामने आए सीएम ठाकरे ने जानकारी दी है कि कर्फ्यू में जरूरी सेवाओं को छूट रहेगी. उन्होंने बताया था कि पाबंदियां 14 अप्रैल को रात 8 बजे से शुरू होकर 1 मई को सुबह 7 बजे तक जारी रहेंगी. हालांकि, वो इस दौरान नई पाबंदियों को लॉकडाउन कहने से बचे. आबादी के बड़े हिस्से पर पाबंदियों के प्रभाव को कम करने के लिए सीएम ने राहत पैकेज की भी बात कही है.

सीएम ठाकरे ने कहा कि सरकार अगले एक महीने तक गरीब और जरूरतमंदों को 3 किलो गेंहूं और 2 किलो चावल देगी. सीएम बुधवार को कोविड स्थिति की समीक्षा करने के लिए जिला कलेक्टर्स के साथ बैठक करने जा रहे हैं. राज्य में कोरोना वायरस का कहर जारी है. बीते कई दिनों से रोज मिलने वाले कोविड-19 मरीजों की संख्या 50 हजार के ऊपर बनी हुई है.

Leave a comment