मुंबई। 'लाइफलाइन' को पटरी पर लाने की तैयारी सभी के लिए जल्द खुलेंगे मुंबई लोकल के दरवाजे

जागरूक टाइम्स 242 Oct 27, 2020

मुंबई। कोरोना महामारी के चलते पिछले 7 माह से आम यात्रियों के लिए ठप मुंबई लोकल के खुलने का इंतज़ार जल्द ही खत्म होने जा रहा है. कोरोना के चलते बदहाली के दौर से गुजर रही देश की आर्थिक राजधानी को पटरी पर लाने के लिए अब सभी मुम्बईकर के लिए लोकल को पटरी पर लाना जरूरी हो गया है . बताया गया है कि 1 नवंबर से सभी के लिए लोकल शुरू करने की तैयारी हो रही है. इस मामले राज्य सरकार और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच चर्चा भी हुई है. अनलॉक की घोषणा के बाद अब मुंबई में सार्वजनिक परिवहन को पूरी क्षमता के साथ धीरे-धीरे खोला जा रहा है. एसटी, बेस्ट बसों के साथ मेट्रो और मोनो को भी सभी लोगों के लिए खोल दिया गया है.

लाइफलाइन धीरे-धीरे हो रही अनलॉक
मुंबई की 'लाइफलाइन' लोकल धीरे-धीरे अनलॉक की ओर बढ़ रही है. अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए शुरू की गई लोकल अब आम महिलाओं के लिए भी नॉन पिक ऑवर में खोल दी गई है. मुंबई लोकल में अत्यावश्यक कर्मचारियों के अलावा दिव्यांगों, कैंसर रोगियों, डब्ब्वाला, निजी सुरक्षा रक्षकों आदि को परमिशन दी गई है. पश्चिम और मध्य रेलवे पर इस समय 1410 फेरियां चलाई जा रहीं हैं. पश्चिम रेलवे पर तो अपनी पूरी क्षमता के आधी से ज्यादा लोकल शुरू हो गई है. लॉकडाउन के पहले तक पश्चिम रेलवे पर कुल रोजाना 1367 लोकल फेरियां होती थी. इस समय 704 फेरियां चलाई जा रहीं हैं.

मुंबई में आवागमन का सर्वोत्तम विकल्प
मुंबई और उपनगरों में बसी 3 करोड़ से ज्यादा की आबादी के लिए आवागमन का सर्वोत्तम विकल्प लोकल ट्रेन ही है. अनलॉक के पहले लगभग 75 से 80 लाख लोग रोजाना मुंबई लोकल से यात्रा करते रहे हैं. लोकल में होने वाली भारी भीड़ के मद्देनजर कोरोना के तेजी से फैलने की आशंका को देखते हुए सबसे पहले ट्रेनों को बंद किया गया. यात्री संगठनों का कहना है अब मुंबई में कोरोना कंट्रोल में आ रहा है तो आम लोगों के लिए लोकल के दरवाजे खुलने चाहिए.

टीआईएफआर की पॉजिटिव रिपोर्ट
टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) ने पिछले दिनों एक रिपोर्ट दी थी, जिसमें 1 नवंबर से मुंबई में लोकल सहित सभी सार्वजनिक परिवहन पूरी तरह खोलने की बात कही गई है. टीआईएफआर ने मुंबई में कोरोना की स्थिति का अध्ययन कर कहा है कि 1 नवंबर से पूरी मुंबई का कामकाज अनलॉक किया जा सकता है, जिसमें सभी के लिए लोकल का संचालन जरूरी है. नियम और शर्तों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, सेनिटाइजर और अन्य उपायों को अनिवार्य करते हुए सार्वजनिक परिवहन सेवा शुरू की जा सकती है. राज्य सरकार को मिली रिपोर्ट में कोरोना की किसी दूसरी लहर से इंकार किया गया है.

टाइम स्टेगरिंग पर चर्चा
सभी के लिए लोकल शुरू होने पर अत्यधिक भीड़ न हो,इसके लिए रेलवे की तरफ टाइम स्टेगरिंग का सुझाव राज्य सरकार को दिया गया है. मुंबई की विभिन्न ऑफिसों, कार्यस्थल के समय में बदलाव पर विचार हो रहा है. लोगों की ड्यूटी के समय में बदलाव के अलावा कुछ दिनों तक यात्रा के लिए ऑड-इवेन के फार्मूले पर राज्य सरकार चर्चा कर रही है. आम यात्रियों को पहले कुछ दिनों तक अलग-अलग दिन यात्रा का पास दिया जा सकता है. रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि राज्य सरकार की शर्तों के अनुरूप ही लोकल का संचालन होगा.


Leave a comment