महाराष्ट्र में 24 घंटे में 58952 लोग कोरोना पॉजिटिव, 278 लोगों की मौत

जागरूक टाइम्स 147 Apr 15, 2021

मुंबई. महाराष्ट्र में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 58,952 नये मामले सामने आये, जबकि 278 और संक्रमितों की मौत हो जाने से कुल मृतक संख्या बढ़ कर 58 हजार 804 पहुंच गई. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी. उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के मामले काफी तेजी से बढ़ने और चिंताजनक हालात को देखते हुए राज्य सरकार ने बुधवार रात आठ बजे से 15 दिनों के लिए सख्त प्रतिबंध लगाने की एक दिन पहले घोषणा की थी. ये प्रतिबंध एक मई सुबह सात बजे तक रहेंगे.

महाराष्ट्र में 11 अप्रैल को संक्रमण के 63,294 मामले सामने आये थे, जो अब तक की सर्वाधिक संख्या है. विभाग ने एक विज्ञप्ति में कहा कि राज्य में अब तक कुल 35,78,160 लोग संक्रमित हुए, जिनमें 29,05,721 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है.

विभाग ने बताया कि राज्य में अभी 6,12,070 संक्रमितों का उपचार चल रहा है. मुंबई में संक्रमण के 9,931 नये मामले सामने आये हैं, जबकि कुल मृतक संख्या बढ़ कर 12,147 पहुंच गई. विभाग ने बताया कि राज्य में अब तक कुल 2,28,02,200 नमूनों की जांच की गई है. विभाग के मुताबिक कोविड-19 से उबरने की दर महाराष्ट्र में 81.21 है, जबकि इससे होने वाली मृत्यु दर 1.64 प्रतिशत है. मुंबई संभाग में 18,676 नये मामले सामने आए, जबकि 89 और संक्रमितों की मौत हो गई.

नासिक संभाग में कुल कोविड-19 के 8,309 और पुणे संभाग में 9,909 नये मामले सामने आये हैं. कोल्हापुर संभाग में 1,368, औरंगाबाद संभाग में 3,329, लातूर संभाग में 4,792 और अकोला संभाग में 1,753 नये मामले सामने आए. नागपुर संभाग में 10,806 नये मामले सामने आए, जिनमें नागपुर शहर के 4,282 नये मामले भी शामिल हैं.

महाराष्ट्र में कोविड-19 पर काबू पाने के लिए सख्त पाबंदियां लागू
महाराष्ट्र सरकार द्वारा कोविड-19 संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए और बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए अगले 15 दिन के लिए घोषित नये सख्त कदम बुधवार रात से प्रभाव में आ गये. ‘लॉकडाउन जैसी’ पाबंदियां रात आठ बजे से प्रभाव में आ गयीं जो एक मई को सुबह सात बजे तक लागू रहेंगी. इनमें आवश्यक सेवाओं को छूट होगी.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार रात सोशल मीडिया के माध्यम से राज्य की जनता को अपने संबोधन में घोषणा की थी कि लोगों की आवाजाही और गैर-आवश्यक सेवाओं पर रोक लगायी जाएगी. ठाकरे ने कहा था कि इस अवधि में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 लागू रहेगी जिसके तहत पांच या इससे अधिक लोग एक जमा नहीं हो सकते. हालांकि उन्होंने नयी पाबंदियों को ‘लॉकडाउन’ का नाम नहीं दिया. आवश्यक सेवाओं को अनुमति होगी लेकिन एक मई तक प्रदेश में धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक समारोहों पर पूरी तरह रोक रहेगी.

वापस लौट रहे श्रमिक
कोरोना वायरस संक्रमण के दिनों-दिन बढ़ते प्रकोप को देखते हुए मुंबई में लंबे वक्त के लिए लॉकडाउन लागू होने की आशंका के चलते बड़ी तादाद में प्रवासी कामगार अपने मूल निवास स्थानों की ओर रवाना हो रहे हैं.

ये कामगार मुंबई को आगरा से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-तीन के जरिये घर लौट रहे हैं जिनमें सबसे बड़ी तादाद उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों की है. यह राजमार्ग मध्यप्रदेश से होकर गुजरता है.

Leave a comment