महाराष्ट्र सरकार का केंद्र को संदेश- कई जिलों में कल तक खत्म हो जाएगा वैक्सीन स्टॉक

जागरूक टाइम्स 109 Apr 7, 2021

मुंबई. महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या में इजाफा जारी है. इसी बीच खबर है कि राज्य के कई जिलों में वैक्सीन स्टॉक खत्म होने की कगार पर है. बुधवार को एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने जानकारी दी है कि कई जगहों पर एक या दो दिनों में स्टॉक खत्म हो जाएगा. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार को इस संबंध में जानकारी दे दी गई है. राज्य में मरीजों की कुल संख्या 31 लाख से ज्यादा हो गई है.

प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने बताया कि बुधवार की सुबह तक राज्य में करीब 14 लाख वैक्सीन डोज हैं. अधिकारी ने जानकारी दी, 'कई जिलों में आज या कल तक स्टॉक खत्म हो जाएगा. केंद्र को इस बात की जानकारी है और हमने लिखित में उन्हें बताया है.' उन्होंने बताया कि अगर शेड्यूल और वैक्सीन की उपलब्धता हो तो महाराष्ट्र में रोज आसानी से पांच लाख शॉट दिए जा सकते हैं.

बीते कुछ दिनों में राज्य में हर रोज करीब 4 लाख लोगों को वैक्सीन दी जा रही है. महाराष्ट्र में टीकाकरण शुरू होने के बाद से अब तक करीब 82 लाख लोगों को वैक्सीन लग चुकी है. मंगलवार को जारी एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि महाराष्ट्र को कोविड-19 वैक्सीन के 1.06 करोड़ डोज मिले थे. इनमें से 88 लाख डोज का इस्तेमाल किया जा चुका है. जबकि, वेस्टेज का आंकड़ा 3 फीसदी है. बयान में कहा गया है कि वैक्सिनेशन ड्राइव के विस्तार और मामलों में तेजी से हो रही बढ़त को देखते हुए राज्य सरकार ज्यादा तेजी से वैक्सीन स्टॉक की मांग रखेगी.

राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 25 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाए जाने का निवेदन किया है. उन्होंने कहा है कि इससे तेजी से फैल रहे संक्रमण से युवाओं को उस समय बचाने में मदद करेगा, जो जीविका कमाने के लिए घर से बाहर निकल रहे हैं. अपने पत्र में ठाकरे ने 1.5 अतिरिक्त डोज की मांग की है. इससे राज्य सरकार तीन हफ्तों में मुंबई समेत 6 जिलों में 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगा सकेगी.


राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी वैक्सीन की कमी की बात कही है. उन्होंने कहा, 'कई वैक्सीन केंद्रों पर हमारे पास पर्याप्त डोज नहीं हैं और लोगों को वैक्सीन की कमी के चलते वापस भेजना पड़ रहा है.' उन्होंने बताया, 'हमने केंद्र से 20-40 साल की उम्र वाले समूह को प्राथमिकता से वैक्सीन दिए जाने की मांग की है.' टोपे ने कहा, 'हमें संदेह है कि कोई नया स्ट्रेन है, जो लोगों को कम समय में प्रभावित कर रहा है.' उन्होंने जानकारी दी है कि सैंपल्स को नेशनल सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल भेजा गया है.

Leave a comment