मुंबई: वैक्‍सीन की दूसरी डोज लगवाने नहीं पहुंचे 50 हजार से ज्यादा लोग, BMC ने शुरू किया अभियान

जागरूक टाइम्स 193 Jun 10, 2021

मुंबई. बृहन्‍मुंबई महानगर पालिका ने मुंबई में ऐसे लोगों का पता लगाने के लिए एक अभियान शुरू किया है, जिन्‍होंने कोविड-19 वैक्सीन का दूसरा डोज नहीं लिया है. बीएमसी ने ये कदम तब उठाया जब उन्हें इस बात का अहसास हुआ कि 50,000 से ज्यादा लोग दो डोज के बीच का अंतराल पूरा हो जाने के बाद भी दूसरा डोज लेने सेंटर पर नहीं पहुंचे. इसकी जिम्मेदारी वार्ड ऑफिस को सौंपी गई है, उन्हें फोन करके लोगों से जानकारी लेनी है कि वे दूसरा डोज लेने आखिर क्यों नहीं पहुंचे. साथ ही बीएमसी ने उन लोगों को जो दूसरे डोज लगाने के योग्य हैं, उन्हें बगैर किसी तारीख लिए सेंटर पर जाकर टीका लगवाने की अनुमति भी दे दी है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक मुंबई की आबादी 93.5 लाख है, इनमें से महज 8 फीसदी ने अब तक दोनों डोज लिए हैं. वहीं करीब 31 फीसद को कोविड-19 वैक्सीन का पहला डोज लग चुका है. डॉ. शीला जगताप जो शहर के इम्यूनाइजेशन विभाग की प्रमुख हैं, उनका कहना है कि ये पता लगाना बहुत ज़रूरी है कि आखिर दूसरे डोज के आंकड़े इतने कम क्यों है. डॉ. जगताप का कहना है कि ‘हमने ऐसी 7 संभावित वजहों की सूची तैयार की है, जिससे पता चले कि कोई वैक्सीन लगवाने क्यों नहीं आया’. इसमें गर्भवती होना, कोविड संक्रमण, एक दो दिन में लगवाने को लेकर उत्सुक लोग, जिनका पता नहीं लग पाया हो, जिन्हें वैक्सीन तो लग गई है लेकिन कोविन पर नजर नहीं आ रहा है. अब तक ऐसे लोग जिनका पता नहीं लग पाया हो उनकी संख्या ज्यादा है. और जो दूसरा डोज लगवाने नहीं आए उनकी संख्या भी थोड़ी ज्यादा है.

महाराष्ट्र भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला राज्य था, यहां भी मुंबई सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में से एक था. उधर महाराष्ट्र में बुधवार को 10,989 नए संक्रमण के मामले सामने आए, इसके साथ ही राज्य में कुल मामलों की संख्या 58,63,880 पहुंच गई. साथ ही 261 मौत भी दर्ज की गई जिसके साथ स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक राज्य में मरने वालों की संख्या 1,01,833 पहुंच गई. राज्य में पहली बार दो दिन पहले रोज मिलने वाले मामलों की संख्या 10 हज़ार के आंकड़े से नीचे आ गई थी. लेकिन 9 जून को फिर से ये बढ़कर 10 हज़ार से ऊपर चले गए. यही नहीं बुधवार को 16,379 मरीज को अस्पताल से छुट्टी भी मिली, इसके साथ ही ठीक होने वालों का आंकड़ा 55,97,304 पर आ गया है. और राज्य की रिकवरी दर बढ़कर 95.45 पहुंच गई वहीं मृत्युदर भी घटकर 1.74 पर आ गई है.

Leave a comment