महाराष्ट्र में कर्फ्यू का ऐलान, मुंबई छोड़ प्रवासी फिर लौटने लगे घर

जागरूक टाइम्स 208 Apr 14, 2021

मुंबई. महाराष्ट्र में राज्य सरकार ने मंगलवार को लॉकडाउन सरीखी पाबंदियां लागू कर दीं. इसके बाद फिर से राज्य से प्रवासी मजदूरों का पलायन शुरू हो गया है. बता दें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 1 मई तक 15 दिनों के लिए राज्यव्यापी कर्फ्यू की घोषणा की है. मंगलवार रात को जब ठाकरे ने संबोधन में कर्फ्यू की घोषणा की, उसके तुरंत बाद, छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (CSMT) पर प्रवासी श्रमिकों की बड़ी संख्या पहुंच गई. कई लोग अपने घरों के लिए जहां कन्फर्म टिकट पाने में कामयाब रहे, तो कई को जनरल डिब्बे के टिकट खरीदकर स्टेशन के भीतर गए और घर की ओर रवाना हुए.

दूसरी ओर मध्य रेलवे (सीआर) और पश्चिम रेलवे (डब्ल्यूआर) उत्तर भारतीय राज्यों में ट्रेनों की संख्या में वृद्धि कर रही है. मंगलवार रात तक 2,000 से अधिक लोगों का नाम वेटिंग लिस्ट में था. कई सौ प्रवासी श्रमिकों को मंगलवार देर रात लंबी दूरी की ट्रेनों के लिए CSMT में इंतजार करते देखा गया. उनमें से अधिकांश पिछले साल के अनुभव के डर से घर लौटने की कोशिश कर रहे थे.

उत्तर प्रदेश के जौनपुर से 36 वर्षीय प्रदीप कुमार यादव ने कहा, 'मैं किस्मत वाला था कि मुझे कंफर्म टिकट मिल गया. मैं गोरेगांव में एक फर्नीचर की दुकान में काम करता था. दुकान बंद हो गई है और मालिक ने हमें छुट्टी पर जाने के लिए कहा. मैं दो महीने पहले ही मुंबई आया था. मैं पिछले लॉकडाउन के दौरान घर गया था.'

यूपी के गोरखपुर से 23 वर्षीय मोनू गुप्ता डायमंड पॉलिशिंग यूनिट में काम करता थे. द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार गुप्ता ने कहा ' वह कह रहे हैं कि मेरी कंपनी एक या दो सप्ताह के लिए बंद होगी. लेकिन पिछले साल के अनुभव के बाद उन पर मुझे विश्वास नहीं है. मुझे लगता है कि कर्फ्यू को एक या दो महीने के लिए बढ़ाया जा सकता है. इसलिए, मैं घर वापस जा रहा हूं और कर्फ्यू खत्म होने पर वापस आऊंगा.'



महाराष्ट्र में 14 अप्रैल से 15 दिन का कर्फ्यू
संक्रमण के मामले चिंताजनक तरीके से बढ़ने के मद्देनजर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नीत महाविकास आघाडी सरकार ने 14 अप्रैल से 15 दिनों का राज्यव्यापी कर्फ्यू लगाने की मंगलवार को घोषणा की. उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह कर रहे हैं कि महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की मांग को पूरा करने के लिए वह पश्चिम बंगाल से या पूर्वोत्तर राज्यों से ऑक्सजीन की आपूर्ति करने के लिए सैन्य विमान भेजें.

Leave a comment