सिटी सेंटर मॉल अग्निकांड : आग बुझी, धधके अरमानों के शोले

जागरूक टाइम्स 327 Oct 26, 2020

- नीरज दवे/जागरूक टाइम्स संवाददाता

मुंबई। दक्षिण मुंबई में मोबाइल मार्केट के नाम से मुंबई सेंट्रल स्थित मशहूर सिटी सेंटर मॉल में गुरुवार रात भड़की भीषण आग पर शनिवार आधी रात बाद काबू पा लिया गया। लगातार 48 घंटों से अधिक समय तक चले दमकल विभाग के बचाव कार्य को हाल के दिनों में हुए ऐसे हादसों में एक बड़ा 'ऑपरेशन' माना जा रहा है। अभी तक मार्केट के प्रवासी व्यापारियों को इमारत के भीतर नहीं जाने दिया जा रहा है, जबकि महानगरपालिका की टीमें इमारत के अंदर से मलबा बाहर निकालने में जुटीं हैं। सिटी सेंटर मॉल की इमारत में गुरुवार रात तकरीबन साढ़े आठ बजे भीषण आग भड़क गई थी।

> मलबा बाहर निकालने में जुटी बीएमसी
इमारत की दूसरी मंजिल पर स्थित एक दुकान में रखे मोबाइल बैटरियों के बॉक्स में धमाके के बाद आग फैली थी। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। इस भीषण अग्निकांड में इमारत की दूसरी और तीसरी मंजिल पर स्थित तमाम दुकानों को आग की लपटों ने अपनी चपेट में लिया है। अब पता चलेगा कि पहली मंजिल और भूतल में स्थित दुकानों को कितना नुकसान पहुंचा है। मार्केट के व्यापारी लगातार मार्केट के बाहर डेरा जमाए बैठे हैं। मार्केट में सर्वाधिक व्यापारी राजस्थान के जालोर जिले से हैं। जबकि सिरोही, पाली और बाड़मेर जिले के भी अनेक प्रवासी व्यापारी इसी मार्केट से अपना कारोबार चलाते हैं। मारवाड़ के इन्हीं जिलों से यहां हजारों की तादाद में कर्मचारी भी व्यापारियों के साथ जुड़े हुए हैं।

इमारत की मजबूती टटोल रहे विशेषज्ञ
सिटी सेंटर मॉल में लगातार दो दिन आग की लपटों का तांडव चला है। ऐसे में सुरक्षा के लिहाज से अब इमारत की मजबूती को टटोला जा रहा है। प्रत्यक्षदर्शियों में से मार्केट के ही एक व्यापारी महावीरसिंह राजपुराहित ने बताया कि शनिवार आधी रात बाद इमारत में भड़की आग पर दमकल कर्मचारियों ने पूरी तरह काबू पा लिया। रविवार सवेरे से मनपा की टीमें मलबा हटाने में जुटी हैं। उन्होंने बताया कि फिलहाल इमारत में व्यापारियों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है। अभी विशेषज्ञों की टीमें इमारत की मजबूती को परखने में जुटी हैं। इन विशेषज्ञों का मानना है कि लगातार दो दिनों तक आग की लपटों से घिरी इमारत के भीतरी तापमान को सामान्य होने में अभी समय लगेगा। ऐसे में सुरक्षा के दृष्टिकोण से इमारत के पिलरों की मजबूती को खंगालना जरूरी है। ताकि इमारत की मजबूती का परखा जा सके।




Leave a comment