बाढग़्रस्त किसानों को उद्धव का दिवाली तोहफा, 10 हजार करोड़ के राहत पैकेज का एलान

जागरूक टाइम्स 192 Oct 24, 2020

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को राज्य के वर्षा प्रभावित क्षेत्रों के लिए 10,000 करोड़ रुपए के राहत पैकेज की घोषणा की। सरकार ने कहा कि यह राशि दिवाली से पहले वितरित की जाएगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बारिश से प्रभावित क्षेत्रों में समीक्षा के बाद इसकी घोषणा की। ठाकरे ने कहा कि किसानों को 6800 रुपए प्रति हेक्टेयर की मदद के बजाय, हम इसे बढ़ाकर 10000 रुपए प्रति हेक्टेयर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं केंद्र से भी ऐसा करने का आग्रह करुंगा। अब तक, हमने आपदा प्रभावितों को लगभग 3800 करोड़ रुपए की मदद दी है। बता दें कि भारी बारिश से पश्चिमी महाराष्ट्र के 10 से अधिक जिलों में सात लाख हेक्टेयर में तैयार फसलों को काफी नुकसान पहुंचा।

सोलापुर, सांगली, कोल्हापुर, सतारा, उस्मानाबाद, लातूर, बीड और औरंगाबाद में मानसून की संतोषजनक बारिश के बाद किसान बंपर पैदावार की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन मूसलाधार बारिश ने सभी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। बारिश से सोयाबीन, कपास, चना, गन्ना, अनार जैसी खड़ी फसलें चौपट हो गईं। पश्चिमी महाराष्ट्र में सोलापुर और मध्य महाराष्ट्र में उस्मानाबाद सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि यह राशि दिवाली से पहले दे दी जाएगी। मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से गुरुवार को यह ऐलान ऐसे वक्त पर किया गया, जब इससे कुछ दिनों पहले ही उद्धव ठाकरे ने बारिश प्रभावित इलाकों में जानमाल की क्षति का जायजा लिया था।

>> 10 जिलों में भारी के कारण भारी तबाही
पश्चिमी और मध्य महाराष्ट्र के करीब करीब 10 जिलों में भारी बारिश के चलते करीब 7 लाख हेक्टेयर में तैयार हो चुके फसलों को नुकसान हुआ है। इस मॉनसून में संतोषजनक बारिश के बाद किसान अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे थे। लेकिन, पिछले हफ्ते सोलापुर, सांगली, कोल्हापुर, सतारा, उस्मानाबाद, लातूर, बीड और औरंगाबाद में भारी बारिश ने किसानों की उम्मीदों पर पानी फेरकर कर रख दिया। उद्धव ठाकरे द्वारा बारिश से प्रभावित क्षेत्रों में फसलों, पशुधन, स्ट्रक्चर को अनुमानित नुकसान की समीक्षा के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय से इस राहत पैकेज की घोषणा की है। बाढ़ के बाद राज्य स्थति का जायजा लेने के लिए राज्य के सीएम उद्धव ठाकरे ने दौरा भी किया था। अपने दौरे के बाद ही सीएम ने कहा था कि किसानों की मदद के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी।

वहीं, एनसीपी चीफ शरद पवार ने जमीनी जायजा लिया था। उन्होंने माना था कि किसानों को बाढ़ के कारण भारी नुकसान उठाना पड़ा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि किसानों को 6,800 रुपए प्रति हेक्टेयर की मदद के बजाय, हम इसे बढ़ाकर 10,000 रुपए प्रति हेक्टेयर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं केंद्र से भी ऐसा करने का आग्रह करूंगा। अब तक, हमने आपदा प्रभावितों को लगभग 3,800 करोड़ रुपए की मदद दी है। सीएम ने कहा कि समीक्षा बैठक के बाद, मैंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में विभिन्न कार्यों के लिए किसानों और प्रभावित लोगों को 10,000 करोड़ रुपए की मदद देने का फैसला किया है। शरद पवार ने रविवार को कहा था कि हाल में आई बाढ़ के कारण पश्चिमी महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में कृषि को अभूतपूर्व नुकसान पहुंचा है। साथ ही प्रभावित किसानों को जल्द ही आर्थिक मदद दिए जाने का आश्वासन भी दिया। मराठवाड़ा के उस्मानाबाद जिले के तुल्जापुर-परांदा क्षेत्र के किसानों की एक बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व कृषि मंत्री ने आश्वासन दिया कि वे आर्थिक सहायता के बारे में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा करेंगे और केंद्र से भी सहायता का आग्रह करेंगे। शरद पवार के इस बयान के बाद मुख्यमंत्री ने राहत पैकेज का ऐलान किया है।


Leave a comment