सिरोही : ज़िन्दगी और मौत के बीच जुब्बेदा

IANS | Aug 23, 2018

पिण्डवाड़ा इन्द्रा कॉलोनी में रहने वाली जुब्बेदा को अचानक पेट के दर्द होने के बाद उसके पति अब्दुल खान ने उसे राजकीय अस्पताल लेकर गया। वहा मोजुद डॉक्टर भविष्य मंगलम ने जुब्बेदा का राजकीय चिकित्सायल में उपचार करने के बजाय अपने स्वयं के निजि क्लिनिक पर ले गया। वहा कुछ जांच करने के बाद जुब्बेदा के पति को डाक्टर ने बताया कि बच्चा पेट के अन्दर हिल-डुल नहीं रहा है, तथा ऑपरेशन करने की सलाह देते हुए 5 हजार रूपये उपचार के लिए मांगे।

जुब्बेदा के पति ने डॉक्टर को पैसे देकर जुब्बेदा का उपचार प्रारम्भ करवाया। यह ऑपरेशन दो घंटो तक लम्बा चला। डॉ. मंगलम ने केस बिगडता देखकर जुब्बेदा को आनन-आफन में राजकीय चिकित्सायल लेकर गया। अस्पताल में झूठे दस्तावेज तैयार कर । जुब्बेदा को उदयपुर रेफर किया गीताजंलि हॉस्पिटल में जुब्बेदा का उपचार के बाद डॉ. ने बताया कि मरीज के पेट के अन्दर की छोटी आंत उपचार के दौरान करीबन 21 फिट काटी गई बताई।

उदयपुर चिकित्सक ने कहां कि अब हमारे यहां उपचार संभव नहीं है, मरीज को उच्च चिकित्सा के लिए अपोलो हॉस्पिटल चैन्नई ले जाने की सलाह दी, अपोलो में इलाज के लिए डाक्टरों ने चालिस लाख कस खर्च बताया है लेकिन इस गरीब परिवार के पास इतनी बड़ी रकम नही है जो इतना मंहगा इलाज करा पाये।