जालोर में एक तरफ पढ़ा गया निकाह तो दूसरी तरफ सात फेरों की रस्में हुई पूर्ण