इंद्रदेव को प्रसन्न करने के लिए व्यापारियों ने किया यज्ञ