काश !!! रचनाकार भी वोट बैंक होते