दलितों के सामने आ खड़े हुए सवर्ण, यह किसकी साजिश, किसका खेल?