अहंकार से सत्ता, धन और रूप का क्षय : स्वामी प्रतापपुरी