लाखों बच्चों के निवाले पर अफसरों-ठेकेदारों का डाका!