जब खून से रंग जाती, शक्ल न मिलने की शंका...!