मलेरिया से बचाव के लिए करें ये घरेलू उपाय

जागरूक टाइम्स 252 Jul 16, 2018

बरसात के मौसम में मच्छरों का प्रकोप बढ़ना स्वाभाविक है। ऐसे में मलेरिया होने की आशंका होती जाती है। सही इलाज न होने पर मलेरिया जानलेवा भी हो सकता है। मलेरिया के रोगी का लीवर भी बढ़ जाता है। ऐसे में बरसात के मौसम में मलेरिया से बचने के लिए तमाम सावधानियों के साथ ही आपको उसके घरेलू उपचार के बारे में भी जानकारी जरूर होनी चाहिए।

मौसंबी फल : मौसंबी में क्विनिन नाम का पदार्थ पाया जाता है। यह रोग प्रतिरोधी को मजबूत तो बनाता ही है, साथ ही मलेरिया फैलाने वाले पैरासाइट्स का खात्मा करने में भी मददगार होता है। मलेरिया हो जाने के बाद रोगी को पर्याप्त मात्रा में मौसंबी के जूस का सेवन करना चाहिए।

दालचीनी : दालचीनी एंटीपैरासिटिक गुणों से भरपूर होता है जो मलेरिया के प्रमुख कारक परजीवियों को नष्ट करने की क्षमता रखता है। मलेरिया में शरीर को होने वाले दर्द से राहत दिलाने में भी दालचीनी काफी मददगार है। इसके लिए दालचीनी को पानी के साथ उबालकर गाढ़ा मिश्रण तैयार कर लें। इसे शहद के साथ पिएं।

तुलसी : मलेरिया के तमाम लक्षणों का इलाज करने में तुलसी बेहद फायदेमंद है। मलेरिया में जोड़ों और शरीर के दर्द की समस्या से निपटने के लिए तुलसी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए तुलसी की चाय बनाई जा सकती है। या फिर इसे पानी के साथ उबालकर पीया जा सकता है। तुलसी और काली मिर्च का पेस्ट बनाकर सेवन करने से भी मलेरिया के बुखार में राहत मिलती है।

अदरक :
मलेरिया के दौरान बुखार, मिचली, शरीर में दर्द और भूख न लगने जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में अदरक बेहद फायदेमंद रहता है। पानी के साथ उबालकर अदरक का सेवन करने से मलेरिया से राहत मिलती है।

Leave a comment