रिव्यू: पता चल ही गया कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा था!

जागरूक टाइम्स 182 May 24, 2018
साल की सबसे बहुप्रतिक्षित फिल्म बाहुबली : द कन्क्लूजन 28 अप्रैल, शुक्रवार को रिलीज हुई। दुनियाभर में तकरीबन 9,000 स्क्रीन्स पर एकसाथ रिलीज की गई ये फिल्म निर्देशक एसएस राजामौली की फिल्म बाहुबली : द बिगिनिंग का दूसरा भाग है, जिसका देश और दुनियाभर में बेहद बेसब्री से इंतजार किया जा रहा था। 2015 में रिलीज हुई बाहुबली ने न सिर्फ बॉक्स ऑफिस के सभी रिकॉर्ड्स तोड़ डाले थे बल्कि सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार भी अपने नाम किया था। इसके अलावा देशभर के फैंस को इस रहस्य से पर्दा उठने का भी इंतजार था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा? फिल्म की शुरुआत वहीं से होती है जहां बाहुबलीः द बिगनिंग खत्म हुई थी। शिवा उर्फ महेंद्र बाहुबली (प्रभाष) को कटप्पा (सत्यराज) ये बताने की कोशिश करता है की आखिरकार महाराजा अमरेंद्र बाहुबली (प्रभाष) की हत्या कैसे हुई थी। कहानी फ्लैशबैक में जाती है और माहिष्मति का विशाल साम्राज्य आंखों के सामने होता है, जहां अमरेंद्र बाहुबली का राज्याभिषेक होने वाला है। माहिष्मति की प्रजा में इसे लेकर खुशी देखी जा सकती है, लेकिन ये बात बाहुबली के बड़े भाई यानी भल्लालदेव (राणा दग्गुबती) कांटे की तरह चुभती है। अपने राज्याभिषेक से पहले बाहुबली भेष बदलकर देशाटन पर निकलते हैं और वहां उन्हें देवसेना (अनुष्का शेट्टी) से प्यार हो जाता है। बाहुबली से नफरत करने वाला भल्लालदेव अपने पिता के साथ मिलकर बाहुबली को मारने की योजना बनाता है, जिसमें कटप्पा को आगे किया जाता है। इतना ही नहीं महारानी शिवागामी (राम्या कृष्णन) को भी झांसे में लेकर बाहुबली के खिलाफ भड़काया जाता है। अब किन परिस्थितियों में बाहुबली का कत्ल होता है, इसका पता आपको फिल्म देखकर ही लगाना पड़ेगा क्योंकि ये ऐसा सरप्राइज है जिसे फिल्म के निर्माताओं ने 2 साल से छुपा कर रखा है। फिल्म के आखिर में भल्लालदेव और बाहुबली के बीच प्रचंड युद्ध का दृश्य भी होता है, जिसे देखकर दर्शक जरूर रोमांचित होंगे। फिल्म का स्क्रीनप्ले दमदार है। राजामौली ने बतौर निर्देशक एक बार फिर सभी को प्रभावित किया। स्पेशल इफेक्ट्स और वीएफएक्स जबरदस्त है। हर एक सीन में कुछ न कुछ खास जरूर देखने को मिलता है। यह कहने की कतई जरूरत नहीं कि देखने में फिल्म बेहद शानदार है और अधिकतर हिस्सा इतना भव्य और दर्शनीय है कि आपको एक सेकंड के भी छूट जाने का अफसोस होगा। इंटरवल से पहले की फिल्म में कॉमेडी का तड़का और इमोशंस का मसाला भी देखने को मिलेगा। प्रभाष, राणा दग्गुबती का काम काबिल-ए-तारीफ है। राम्या कृष्णन और अनुष्का शेट्टी ने भी अपनी एक्टिंग से लोगों का मन मोहा है। फिल्म को हिंदी में डब किया गया है और बाहुबली के पहले भाग की तरह इस फिल्म में ऐसा कोई गाना नहीं है, जो दर्शक गुनगुनाते हुए सिनेमा हॉल से बाहर निकले।

Leave a comment