पंचतत्व में विलीन हुए सदाबहार नायक ऋषि कपूर, नम आँखों से लोगों ने दी विदाई

जागरूक टाइम्स 497 Apr 30, 2020

मुंबई, (ईएमएस)। हिंदी सिनेमा के लिए अप्रैल के महीने के ये आखिरी दिन काले दिनों की तरह आए हैं. बुधवार सुबह बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान ने इस दुनिया से रुखसत ली और गुरुवार सुबह पौने नौ बजे जाने-माने या यूँ कहें सदाबहार अभिनेता ऋषि कपूर ने दुनिया को अलविदा कह दिया. वह 67 साल के थे. इस प्रकार २४ घंटे के भीतर बॉलीवुड के दो नामचीन सितारों के जाने से समूचा फिल्म जगत समेत देशवासी शोकाकुल हैं. मालूम हो कि ऋषि कपूर कुछ सालों से कैंसर जैसी घातक बीमारी से जंग लड़ रहे थे. उनका अंतिम संस्कार गुरुवार शाम करीब सवा चार बजे मुंबई के मरीन लाइन्स स्थित चंदनवाडी शव दाहगृह में किया गया. उनका पार्थिव शरीर अस्पताल से सीधा वहीं ले जाया गया. उनकी अंतिम यात्रा में परिवार के लोगों के अलावा फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े कुछ करीबी दोस्त ही शामिल थे.

बता दें कि ऋषि कपूर कुछ सालों से कैंसर से जंग लड़ रहे थे. साल 2018 में ऋषि कपूर कैंसर का इलाज कराने के लिए न्यूयॉर्क गए थे. कई महीनों तक वहां पर इलाज़ कराने के बाद ऋषि कपूर ने 2019 में भारत वापसी की थी. लेकिन भारत वापस आने के बाद भी लगातार उन्हें अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ रहे थे. इससे पहले वे फ़रवरी महीने में दो बार अस्पताल में भर्ती हो चुके थे. बुधवार रात ऋषि कपूर को सांस लेने में तकलीफ आई थी, जिसके बाद उन्हें मुंबई के एचएन रिलायंस फ़ाउंडेशन अस्पताल में भर्ती करवाया गया. ऋषि कपूर के निधन की खबर सामने आने के बाद फैंस के साथ-साथ इंडस्ट्री के सेलेब्स भी सदमे में हैं. अमिताभ बच्चन से लेकर सलमान खान तक कई बॉलीवुड सितारों ने उन्हें सोशल मीडिया के जरिए श्रद्धांजलि दी है.

अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर बताया कि उनके अजीज दोस्त ऋषि कपूर की मृत्यु ने उन्हें तोड़कर रख दिया है. वहीं कई लोग तो अभी भी इस खबर पर यकीन ही नहीं कर पा रहे हैं. ऋषि कपूर न्यूयॉर्क से कैंसर ट्रीटमेंट करवा कर सितंबर 2019 में वापस लौटे थे. इस दौरान वो सोशल मीडिया के जरिए फैंस के साथ लगातार जुड़े रहे थे. लॉकडाउन के बाद से भी ऋषि कपूर सोशल मीडिया पर जबरदस्त एक्टिव दिखाई दिए थे. वो लगातार अपने सोशल अकाउंट के जरिए कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए लोगों को जागरूक करते नजर आए थे. वो ट्विटर पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए मशहूर थे.

ऋषि कपूर के अलविदा कहने के बाद ऋषि कपूर के परिवार ने अपना बयान जारी किया. बयान में कहा, 'हमारे प्यारे ऋषि कपूर 2 सालों तक ल्यूअकेमिया से लड़ने के बाद आज सुबह 8.45 बजे अस्पइताल में हम सब को छोड़कर चले गए. डॉक्ट रों और मेडिकल स्टायफ का कहना है कि वह आखिर तक सभी का मनोरंजन करते रहे थे. वह कैंसर से चल रही लड़ाई के दो सालों में हमेशा दृढ़ निश्चय और जिंदादिल रहे थे. परिवार, दोस्तस, खाना और फिल्मेंे हमेशा उनके ध्यािन में रही थीं और जो भी उनसे मिलता था ये देखकर दंग था कि आखिर वह इस बीमारी से जूझते हुए भी इस बीमारी को खुद पर हावी नहीं होने देते.'

- 24 लोगों को ही मिली अंतिम संस्कार में जाने की इजाजत
देश में जारी लॉकडाउन के बीच प्रशासन ने अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बेहद करीबी 24 लोगों को ही इजाजत दी. बताया गया है कि मुंबई पुलिस ने अंतिम संस्कार के दौरान नीतू कपूर, रीमा जैन, मनोज जैन, अरमान जैन, आदर जैन, अनीषा जैन, राजीव कपूर, रणधीर कपूर, सैफ अली खान, करीना कपूर खान, बिमल पारिख, नताशा नंदन, अभिषेक बच्चन, डॉक्टर तरंग, आलिया भट्ट, अयान मुखर्जी, जय राम, रोहित धवन, राहुल रवैल को मौजूद रहने की इजाजत दी है. ऋषि कपूर के निधन की खबर सुनकर गुरुवार सुबह अस्पताल के बाहर बड़ी संख्या में लोग जुट गए थे, लेकिन मुंबई पुलिस ने सभी को वापस कर दिया. अंतिम वक्त में ऋषि कपूर के साथ पत्नी नीतू, बेटे रणवीर समेत पूरा परिवार मौजूद रहा.

- कोरोना वारियर्स का ताली-थाली बजाकर किया था अभिवादन
ऋषि कपूर आखिरी बार तब नजर आये थे जब २२ मार्च २०२० रविवार के दिन जनता कर्फ्यू में उन्होंने भी अपने घर की बालकनी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर कोरोना वारियर्स की हौसला अफजाई के लिए ताली-थाली बजाकर उनका अभिवादन किया था. सोशल मीडिआ पर उनका ये वीडियो खूब वायरल हुआ था. उस वीडियो में ऋषि कपूर को देखने से ये कतई नहीं लग रहा था कि डेढ़ माह से भी कम समय में वे हम सभी को अलविदा कह जायेंगे।

- ऋषि कपूर की बेटी को गृह मंत्रालय ने दी मुंबई जाने की इजाजत
ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर और उनके परिवार समेत ५ लोगों को सड़क मार्ग से दिल्ली से मुंबई तक जाने की अनुमति गृह मंत्रालय द्वारा दी गई. दरअसल गुरुवार सुबह रिद्धिमा ने मुंबई जाने की अनुमति मांगी थी. कपूर खानदान की तीसरी पीढ़ी के मशहूर शख्स ऋषि के परिवार में पत्नी नीतू कपूर, बेटा रणबीर कपूर और बेटी रिद्धिमा कपूर हैं. रणबीर और नीतू मुंबई में हैं जबकि बेटी रिद्धिमा दिल्ली में थीं. ऐसे में उन्होंने गृह मंत्रालय से अनुमति मांगी थी. गौरतलब हो कि देशव्यापी लॉकडाउन के बीच दिल्ली की सीमाएं फिलहाल सील हैं. इसके अलावा दिल्ली के सभी हवाई अड्डों से किसी भी तरह के विमान की भी आवाजाही पर रोक लगी हुई है. ये कयास लगाए जा रहे थे कि सरकार से अनुमति मिलने पर रिद्धिमा और उनका परिवार विशेष विमान के जरिए मुंबई तक पहुंचेगा. इसके लिए जरूरी अनुमति के आवेदन दिल्ली और महाराष्ट्र के अधिकारियों तक भेजे गए थे. बता दें कि ऋषि कपूर अपनी बेटी रिद्धिमा के काफी करीब थे. दोनों की बॉन्डिंग काफी मजबूत थी. लेकिन अब ऋषि कपूर का यूं निधन हर किसी को रुला रहा है.

- राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने भी जताया शोक
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित विभिन्न मंत्रियों ने सदाबहार अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर गुरुवार को शोक प्रकट किया और उन्हें सदाबहार एवं ऊर्जा से परिपूर्ण व्यक्तित्व बताया . राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘ ऋषि कपूर के असामयिक निधन से गहरा दुःख हुआ है.’’ उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा कि उनके सदाबहार और प्रसन्नचित्त व्यक्तित्व तथा ऊर्जा के कारण यह विश्वास करना मुश्किल है कि वे नहीं रहे. उनका निधन सिने जगत के लिए अपूरणीय क्षति है. उन्होंने कहा, ‘‘ उनके परिवार, शुभचिंतकों और प्रशंसकों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं.’’

उप राष्ट्रपति नायडू ने अपने शोक संदेश में कहा, “हिंदी सिनेमा के प्रख्यात कलाकार और वरिष्ठ अभिनेता ऋषि कपूर के असामयिक निधन के दुखद समाचार से स्तब्ध हूं. उन्होंने अपनी बहुमुखी अभिनय प्रतिभा से भारतीय दर्शकों को दशकों तक मंत्रमुग्ध रखा और उन चरित्रों को हमारी स्मृति में अमर कर दिया.” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ऋषि कपूर के निधन पर ट्वीट कर दुख जताया है. उन्होंने लिखा- बहुआयामी, प्रिय और जीवंत. ये ऋषि कपूर जी थे. वो प्रतिभा के पावर हाउस थे. मैं हमेशा सोशल मीडिया पर अपनी बातचीत को याद करूंगा. वो फिल्मों और भारत की प्रगति के बारे में भावुक थे. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना.

- मुख्यमंत्रियों ने भी संवेदना व्यक्त किया
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर गुरुवार को अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की.

- हमने एक और हस्ती को खो दिया- राहुल गांधी
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है, ''यह हफ़्ता भारतीय सिनेमा के लिए बहुत ही डरावना है. हमने एक और हस्ती ऋषि कपूर को खो दिया. वो शानदार अभिनेता थे और उनके चाहने वाले हर पीढ़ी के लोग थे. उनकी कमी बहुत खलेगी. इस दुखद घड़ी में उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के साथ मेरी संवेदना है.''

- ऋषि के निधन से टूट गए अमिताभ
ऋषि कपूर के निधन से पूरे देश में शोक की लहर है. बॉलीवुड सितारों से लेकर फैंस सभी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं. अमिताभ बच्चन ने सबसे पहले ट्वीट कर ऋषि कपूर के निधन की जानकारी दी. उन्होंने लिखा, 'वो गया. ऋषि कपूर गए. अभी उनका निधन हुआ. मैं टूट गया हूं.'

- ऋषि कपूर के जाने पर छलके लता और आशा के आंसू
ऋषि कपूर के निधन ने सभी की आंखें नम कर दी है. उनकी मौत पर पूरा बॉलीवुड शोक जता रहा है. लता मंगेशकर ने भी इस दुख की घड़ी में अफसोस जताया है. लता ने ऋषि के साथ बचपन की जुड़ी यादों का जिक्र किया. उन्होंने कहा- 'मैं वाकई बहुत दुखी हूं. मुझसे मत पूछिए. जब वो 6 महीने के थे तो उन्हें हाथों में लिया था. मैं बहुत दुखी हूं. कुछ भी कह पाना नामुमकिन है मेरे लिए'. लता की बहन आशा भोंसले ने भी ऋषि कपूर की मौत पर दुख जताया है.

उन्होंने कहा- 'बचपन से कपूर खानदान से यादें जुड़ी हुई हैं. मैं उनके घर अकेले खाना खाने गई थी. ऋषि कपूर के साथ गहरे संबंध थे. मेरे हाथ का खाना उन्हें काफी पसंद था. वे हमेशा फोन पर बात करते थे. कहते थे कब बुला रही हो मैं खाना खाने आऊंगा. मुझे बहुत दुख है. ऋषि घुल मिल जाते थे. कहीं भी मिलने पर बात करते थे. जब भी फोन करती थी आते थे.'

- पवार ने व्यक्त की गहरी संवेदना
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने ट्वीट किया, " वरिष्ठ अभिनेता ऋषि कपूर के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ. भारतीय फिल्म उद्योग ने एक बहुमुखी और करिश्माई अभिनेता को खो दिया है. कपूर परिवार के प्रति मेरी संवेदना है." उनकी बेटी और लोकसभा सदस्य सुप्रिया सुले ने भी कपूर के असमय निधन पर दुख जताया. उन्होंने कहा कि वह काफी प्रतिभावान और प्रशंसित अभिनेता थे. वह अच्छे इंसान और दोस्त थे. सुले ने ट्वीट किया, " नीतू, रणबीर, डब्बू, रीमा, चिम्पू और कपूर परिवार के अन्य सदस्यों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं. चिंटू की आत्मा को शांति मिले. आप याद रहेंगे. "

- बॉबी से बॉलीवुड में किया डेब्यू
हिन्दी फ़िल्म इंडस्ट्री के बहुचर्चित कपूर ख़ानदान में शायद ऋषि कपूर ही एकमात्र ऐसे कलाकार थे, जिन्होंने एक अलग पहचान बनाई. शोमैन राजकपूर के बाद अगर कपूर ख़ानदान का नाम किसी ने और चमकाया तो वे ऋषि कपूर थे. ऋषि कपूर ने 1973 में फिल्म बॉबी से बॉलीवुड में डेब्यू किया. उन्होंने एक से बढ़कर एक फिल्में हिंदी सिनेमा को दी. ऋषि की एक्टिंग को काफी पसंद किया जाता है. ऋषि हर किरदार में आसानी से ढल जाते थे और उसे अपना बना लेते थे. बता दें कि बॉबी से पहले ऋषि 1970 में राजकपूर की ही फिल्म मेरा नाम जोकर में ऋषि कपूर एक बाल कलाकार की भूमिका में नजर आ चुके हैं.

- ऋषि कपूर के जीवन पर एक नजर
ऋृषि कपूर का जन्म चार सितंबर 1952 को मुंबई में हुआ था. वह पृथ्वीराज कपूर परिवार में जन्मे थे. उनके पिता अभिनेता-निर्देशक राज कपूर थे. ऋषि कपूर दिग्गज अभिनेता राज कपूर के दूसरे बेटे थे. ऋषि कपूर के दो भाई रणधीर कपूर और राजीव कपूर हैं. इसके अलावा दो बहनें ऋतु नंदा, रिमा जैन हैं. अपनी पहली ही फ़िल्म ‘मेरा नाम जोकर’ के लिए ऋृषि कपूर को राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार मिला था. उन्हें ‘चिंटू’ के नाम से भी जाना जाता था. साल 2008 में उन्हें फ़िल्मफ़ेयर की ओर से लाइफ़टाइम अचीवमेंट पुरस्कार दिया गया था. ‘बॉबी’ फ़िल्म के उनके किरदार को काफ़ी पसंद किया जाता है. इसके अलावा उनकी ‘प्रेम रोग’, ‘नगीना’, ‘चांदनी’ जैसी पुरानी फ़िल्मों को भी पसंद किया जाता है. हाल ही में आईं उनकी फ़िल्में ‘मुल्क’, ‘दो दूनी चार’, ‘अग्निपथ’ और ‘102 नॉट आउट’ जैसी फ़िल्में भी काफ़ी पसंद की गईं थीं. ऋषि कपूर ने आख़िरी फ़िल्म इमरान हाशमी के साथ द बॉडी में काम किया था. ऋषि कपूर ने हाल ही में ऐलान किया था कि उनकी अगली फ़िल्म बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण के साथ होगी. ये फ़िल्म हॉलीवुड फ़िल्म द इंटर्न की हिंदी रिमेक होती.


Leave a comment