3 फिल्मों में आमिर खान की अधूरी रह गई प्रेम कहानी

जागरूक टाइम्स 134 Jun 27, 2018

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट कहे जाने वाले आमिर खान फिल्मों में अपनी बेहतरीन एक्टिंग से सबको हैरान कर देते हैं। आमिर अच्छे एक्टर होने के साथ-साथ एक समाजसेवी के रूप में भी जाने जाते हैं। उन्होंने मजह 8 साल की उम्र में 'यादों की बारात' से बचपन में ?ही काम करना शुरू कर दिया था। वहीं 2008 में आई फिल्म 'तारे ज़मीन पर' का निर्देशन किया था जिसको फैंस ने काफी पसंद किया। वैसे आमिर की लाइफ के बारे में जानने के लिए फैंस काफी उत्सुक रहते हैं। वहीं फिल्मों में भी उनकी एक्टिंग और कुछ रोचक बातों को जानने के लिए फैंस आमिर के बारे में काफी सर्च करते हैं लेकिन आज हम आपको आमिर की कुछ ऐसी फिल्मों के बारे में बताएंगे जिसके आखिर में फिल्म की हीरोइन की मौत हो जाती है। 


1. कयामत से कयामत तक (1988) 

1988 में आई फिल्म कयामत से कयामत तक ने आमिर को रातों रात स्टार बना दिया। फिल्म में आमिर खान और जूही चावला ने बतौर लीड स्टार इस फिल्म से डेब्यू किया था। फिल्म को मंसूर खान ने डायरेक्ट किया। फिल्म को दर्शकों ने भरपूर प्यार दिया। इस रोमांटिक ड्रामा फिल्म की सफलता ने देश को आमिर खान का दीवाना बना दिया था। लव स्टोरी और एक दूजे के लिए जैसी प्यार में मर मिटने या मिटाये जाने की कहानी की तजऱ् को आमिर खान ने अपनी को-एक्टर जूही चावला के साथ इतनी ख़ूबसूरती और मासूमियत के साथ परदे पर उतरा कि लोग आज भी राज और रश्मि की उस जोड़ी को नहीं भूले हैं। इस फिल्म में आमिर की हीरोइन यानी जूही चावला की मौत हो जाती है।


2. गजनी (2008)

2008 में आई आमिर खान की फिल्म गजनी को लोगों ने काफी पसंद किया। फिल्म में उनके साथ एक्ट्रेस असीन ने अहम किरदार निभाया। फिल्म में आमिर को 'शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस' की बीमारी है, जो इसे एक नया एंगल देती है। वहीं आमिर का फिल्म में किरदार संजय सिंघानिया का है जो एयर वाइस सेल्यूलर फोन कंपनी का मालिक है। वह असीन यानि कल्पना से प्यार कर बैठता है और दोनों की प्रेम कहानी शुरु हो जाती है। वहीं कल्पना कुछ लड़कियों को गुंडों से बचाती हैं जोकि बाद में कल्पना (असीन) को मार देते हैं। वहीं जब संजय कल्पना को बचाने आता है तब तक गुंडें उसको मार चुके होते हैं और वह संजय (आमिर) की भी जमकर पिटाई करते हैं जिसके बाद संजय शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस का शिकार हो जाता है। फिर किस तरह संजय कल्पना की मौत का बदला लेता है फिल्म में रोमांचक तरीके से दिखाया गया है। 


3. तालाश (2012)

2012 में आई आमिर खान की फिल्म तलाश को लोगों नें काफी पसंद किया। फिल्म में आमिर के अलावा करीना कपूर, रानी मुखर्जी, नवाज़ुद्दीन सिद्दकी और सुब्रत दत्ता का भी अहम किरदार है। फिल्म में आमिर की पत्नी के किरदार रानी मुखर्जी ने निभाया। फिल्म के शुरुआत में ही करीना की मौत हो जाती है जिसकी तहकीकात में इंस्पेक्टर शेखावत यानी आमिर खान लग जाते हैं। फिल्म में आमिर और करीना की जबरदस्त परफॉर्मेंस है, वहीं रानी ने भी अपना किरदार बखूबी निभाया है। ये फिल्म आमिर के लिए जबरदस्त फिल्म साबित हुई।

Leave a comment