टॉप्स से बाहर हो सकते हैं बोपन्ना और शरण

जागरूक टाइम्स 652 May 4, 2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। नेशनल टेनिस फेडरेशन ने एशियाई खेलों के बाद से देश के शीर्ष एकल खिलाड़ियों को टॉप्स योजना में दोबारा शामिल कराने की मांग नहीं की है। यहां तक कि युगल विशेषज्ञ रोहन बोपन्ना और दिविज शरण पर भी इससे बाहर होने का खतरा मंडरा रहा है। इस समय विभिन्न स्पर्धाओं के 71 ऐथलीट टॉप्स के अंर्तगत वित्तीय सहायता हासिल कर रहे हैं। बोपन्ना और शरण इस सूची में शामिल टेनिस खिलाड़ी हैं।

टोक्यो ओलिंपिक को देखते हुए सत्र के शुरू में इन दोनों ने एक साथ खेलने का फैसला किया था, लेकिन नतीजे मनमुताबिक नहीं रहे जिससे उन्हें अलग जोड़ीदारों के साथ खेलने पर बाध्य होना पड़ा। सरकार ने अब अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) से पूछा है कि ये अलग क्यों हुए और महासंघ ने इसके जवाब में बोपन्ना से कहा वे इस फैसले का औचित्य बताएं।

देश के शीर्ष एकल खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन और अंकिता रैना टॉप्स का हिस्सा नहीं हैं, क्योंकि उनके नाम जकार्ता-पालेमबांग एशियाई खेलों के बाद से हटा दिए गए थे, जिसमें उन्होंने ब्रॉन्ज मेडल हासिल किए थे। दिलचस्प बात यह है कि एआईटीए ने शीर्ष खिलाड़ियों के दोबारा सूची में शामिल कराने के लिए पहल नहीं की। एआईटीए महासचिव हिरण्मय चटर्जी ने कहा नाम पहले ही सरकार के पास हैं।

सरकार ने एशियाई खेलों के बाद से इसके बारे में कोई चर्चा नहीं की और हम टॉप्स में किसी को शामिल करने के लिए सरकार को बाध्य नहीं कर सकते। प्रजनेश, युकी भांबरी, रामकुमार रामनाथन, अंकिता, करमन कौर थांडी और प्रार्थना थोम्बरे 2018 एशियन गेम्स से पहले इस सूची में शामिल थे, लेकिन इन खेलों के बाद केवल बोपन्ना और शरण को ही इसमें बरकरार रखा गया।

बोपन्ना से जवाब के बारे में चटर्जी ने कहा रोहन हमें जो कुछ भी लिखेंगे, हम सरकार के पास भेज देंगे। यह खिलाड़ियों का पेशेवर फैसला था और हम इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकते। शायद रोहन सोचते हैं कि अगर वह किसी अन्य खिलाड़ी के साथ खेलेंगे तो उसकी रैंकिंग बेहतर होगी लेकिन टोक्यो ओलिंपिक से पहले ये दोनों फिर से एक साथ खेल सकते हैं और यह अच्छा ही होना चाहिए। बोपन्ना (40वीं रैंकिंग) और शरण (41वीं रैंकिंग) ने पुणे में सत्र के शुरुआती टाटा ओपन महाराष्ट्र टूर्नामेंट में जीत से अच्छी शुरुआत की थी, लेकिन इसके बाद चार प्रतियोगिताओं में वे पहले ही दौर में बाहर हो गए।


Leave a comment