हत्याकांड: रोहित, उज्जवला व सिद्धार्थ के नाम पर 6 करोड़ की एफडी

जागरूक टाइम्स 530 Apr 27, 2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। दिवंगत नेता नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या की पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि रोहित उनकी मां उज्जवला और भाई सिद्धार्थ तीनों के नाम से कुल छह करोड़ रुपये की फिक्सड डिपाजिट (एफडी) है। इसके अलावा उज्जवला के नाम देहरादून, में फार्म हाउस भी है। उज्जवला ने पूछताछ में बताया था कि बहुत पहले गांव की जमीन को बेचकर फार्म हाउस खरीदा गया था।

उज्जवला ने बताया था कि उसने अपनी वसीयत में फार्म हाउस रोहित और सिद्धार्थ के नाम कर दिया है। हालांकि अभी तक वसीयत पुलिस को नहीं मिली है। पुलिस रोहित हत्या मामले की जांच प्रॉपर्टी के एंगल से भी कर रही है। जांच के दौरान एनडी तिवारी के खाते में पुलिस को सिर्फ १० हजार रुपये मिले हैं। रोहित की हत्या में पुलिस उनकी पत्नी अपूर्वा को गिरफ्तार कर चुकी है। रोहित की हत्या की जांच में ये बात सामने आई कि रोहित व अपूर्वा जिस सी-३२९ डिफेंस कॉलोनी में रहते थे उसमें वर्ष १९७९ से रंगाई-पुताई नहीं हुई है। वर्ष १९७८ में पेशे से वकील रहीं उज्जवला ने कोठी खरीदी थी।

पुलिस का कहना है कि कोठी के अंदर की दीवारों की हालत बहुत खराब हो गई है। पति रोहित की हत्या की आरोपी अपूर्वा शुक्ला तिवारी व उसकी सांस तंत्र-मंत्र में विश्वास करते ते। बताया जाता है कि शादी के बाद अपूर्वा पति से रूठकर इंदौर चली गई थी। इसके बाद उज्जवला ने घर में हवन आदि कराया था। पुलिस अधिकारियों के अनुसार रोहित व अपूर्वा दोनों मांगलिक हैं। रोहित अपने कमरे में नौ गद्दों पर सोता था। रोहित रोज रात एक बजे नहाता था।

हालांकि वारदात वाली रात वह नहीं नहाया था। पुलिस अधिकारियों के अनुसार अपूर्वा के मोबाइल को जल्द ही रोहिणी स्थित एफएसएल में जांच के लिए भेजा जाएगा। अपूर्वा ने मोबाइल से काफी चीजें डिलीट कर दी थीं। कॉल डिटेल में यह बात सामने आई है कि अपूर्वा दिन में ५ से ६ कॉल करती थी। पुलिस इसका पता लगा रही है कि पेशे से वकील होने के बावजूद अपूर्वा के पास इतनी कम कॉल क्यों आती थीं।

Leave a comment