...अब केबीसी के नाम पर ठगी का धंधा शुरू

जागरूक टाइम्स 266 Aug 23, 2018

टीवी पर प्रसारित होने वाले कई ऐसे धारावाहिक होते है जिसमें हिस्सा लेने के नाम पर ठगी का घंधा शुरू हो जाता है। सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के टीवी क्विज शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) का 10वां सीजन जल्द टीवी पर शुरू होने वाला है और इस शो के नाम पर ठगों ने अपना धंधा चालू कर दिया है। इस गेम के लिए इनवाइट करने और लकी ड्रॉ जीतने के नाम पर बदमाश लोगों को ठग रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। ठगों का यह गैंग पूरे देश में लोगों को निशाना बना रहा है। एक महिला की शिकायत के बाद मामला सामने आया। महिला के पास एक कॉल आया। कॉलर ने कहा कि वह केबीसी की तरफ से बोल रहा है और वह 25 लाख रुपये जीती हैं। उसने कहा कि जीती रकम पाने के लिए उन्हें पहले 8000 रुपये का टैक्स और प्रॉसेसिंग फीस डिपॉजिट करनी होगी। महिला ने पैसे जमा कर दिए। इसके बाद उनके पास एक और कॉल आया और कहा गया कि सिक्यॉरिटी क्लियरेंस के लिए उन्हें 25,000 रुपये जमा कराने होंगे।

महिला की मोबाइल स्क्रीन पर जो नंबर (0092301487****) दिखाई दे रहा था वह पाकिस्तान का था। हालांकि शुरुआती जांच में पता चला है कि ठगी करने वाले नंबर स्पूफिंग और वॉइस ओवर इंटरनेट टेलिफोनी (वीओआईपी) का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस केस की जांच कर रही पुलिस पूर्व में सामने आए ऐसे ही मामलों को भी फिर से खंगाल रही है।

साल 2012 में तीन बदमाशों के एक गैंग का भंडाफोड़ हुआ था जो केबीसी के नाम पर ठगी करता था। उस केस में केतन वर्मा, निजाम खान और शाहिद अंसारी आरोपी थे। साल 2014 में स्पेशल सेल ने केबीसी में चांस दिलाने का वादा कर कई लोगों को ठगने वाले 3 बदमाशों को गिरफ्तार किया था। इस गैंग का सरगना उमर अली था, राकेश राउत और अहमद हुसैन उसके साथी थे।

उस समय भी बदमाश ऐसे नंबर से कॉल करते थे जो 92 से शुरू होता था। साल 2017 में अली के साथी ओडिशा से गिरफ्तार किए गए। इन लोगों ने उसी तरीके से कई लोगों से करीब एक करोड़ रुपये तक की ठगी की थी। ऐसा कहा जा रहा है कि उस वक्त अली बेल पर जेल से बाहर था और रैकेट चला रहा था। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि उन दोनों गैंग में से अब भी कोई गैंग सक्रिय है या नहीं।

Leave a comment