70 साल में पाक नहीं कर पाया, उसके दोस्त मोदी ने 5 साल में कर दिया : सीएम केजरीवाल

जागरूक टाइम्स 348 Apr 11, 2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है। भाजपा के विरोधी लागातर हमला कर रहे हैं, विपक्ष सीधे प्रधानमंत्री मोदी को ही निशाने पर ले रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जो काम पाकिस्तान 70 साल में नहीं कर पाया, उसके दोस्त मोदी जी ने पाँच साल में कर दिया। बता दें कि कल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक इंटरव्यू में कहा था कि अगर दोबारा मोदी की सरकार बनती है तो शांति की पहल को आगे बढ़ाया जा सकता है।

केजरीवाल ने कहा कि पाकिस्तान और इमरान खान भी यही चाहते हैं कि हिंदुस्तान में दंगे फैलें। इसीलिए पाकिस्तान खुल कर मोदी जी को फिर पीएम बनाने के लिए हर तरह की मदद कर रहा है। जो काम पाकिस्तान 70 साल में नहीं कर पाया, उसके दोस्त मोदी जी ने 5 साल में कर दिया- हिंदुस्तान का भाईचारा ख़राब कर दिया। बता दें कि ये पहला मौका नहीं है जब केजरीवाल ने इस तरह का हमला बोला है, कल भी उन्होंने इसी मुद्दे पर ट्वीट किया था।

केजरीवाल ने लिखा था कि पाकिस्तान में मचा शोर, वंस मोर। मुख्यमंत्री के अलावा दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया भी बीजेपी और मोदी पर हमलावर हैं। सिसोदिया ने ट्वीट कर लिखा, ''पाकिस्तान क्यों बेताब है कि नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बने ताकि उसकी आतंक की दुकान चलती रहे? क्या इसीलिए पाकिस्तान ने पुलवामा में हमारे जवानों की निर्मम हत्या आतंकवादियों से कराई ताकि मोदी जी पाकिस्तान को दुश्मन दुश्मन चिल्लाकर वोट माँग सकें?।

आम आदमी पार्टी के बागी नेता कपिल मिश्रा ने प्रधानमंत्री पर हमले के लिए केजरीवाल को पर निशाना साधा है। कपिल मिश्रा ने कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया, ''पुलवामा आतंकी हमलें में अपने देश को बदनाम कराने की केजरीवाल की ये कोशिश बहुत घटिया, छिछोरी और जलील हरकत हैं ये मूर्ख, बेशर्म, निकम्मा, नालायक सीएम जब भी मुंह खोलेगा देश के ख़िलाफ़ बोलेगा अपनी मर्यादा में रहो केजरीवाल लोग कहते हैं केजरीवाल "पागल" हैं उन्हें सही साबित मत करो।इमरान खान ने कहा है कि अगर बीजेपी दोबारा चुनाव जीतती है तो भारत के साथ शांति वार्ता को लेकर अच्छा होगा।

इमरान खान ने यह भी कहा कि अगर कांग्रेस की सरकार आई तो शायद ये मुमकिन नहीं होगा। इमरान ने कहा कि अगर अगली भारतीय सरकार विपक्षी पार्टी कांग्रेस की अगुवाई में आई तो कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के साथ समझौता करने से डर सकती है। लेकिन अगर बीजेपी आई तो इस मसले पर कोई हल निकाला जा सकता है।


Leave a comment