लॉकडाउन के बाद ऑफिस में जरुरी होगा मास्क

जागरूक टाइम्स 167 May 12, 2020

-हाथ मिलाने की परंपरा को भूलना होगा

नई दिल्ली (ईएमएस)। लॉकडाउन खुलने के बाद ऑफिस जाने वाले कर्मचारियों के लिए मास्क पहनना जरूरी होगा। ऑफिस में उन्हें पहले से ही अपनी सीट बुक करानी होगी। यही सीट पास ऑफिस में घुसने के लिए गेट पास होगा। सारे लोग एक साथ कैफे में नहीं जा सकेंगे। सबके लिए अलग-अलग समय होगा। और हां, हाथ मिलाना तो भूल जाइए। दूर से नमस्ते करके ही काम चलाना होगा। हालांकि लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी कई कर्मचारियों के लिए घर से काम करने की सुविधा जारी रहेगी। लेकिन जिन्हें ऑफिस जाना पड़ेगा उनका सामना ऑफिस की इस नई सच्चाई से होगा।

कई कंपनियों लॉकडाउन के बाद अपने कर्मचारियों को ऑफिस बुलाने की तैयारी कर रही हैं। हालांकि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि उनका ऑफिस रेड, ओरेंज या ग्रीन किस इलाके में है। उन्हीं कर्मचारियों को ही ऑफिस बुलाया जाएगा जिनका जाना बेहद जरूरी है। 75 हजार कर्मचारियों वाले एक्सिस ग्रुप ने अपने कर्मचारियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए 2-3-5 दिन के रिमोट वर्किंग मॉडल का प्रस्ताव रखा है। अधिकांश कंपनियों चाहती हैं कि हर समय उनके कर्मचारी मास्क पहने रखें।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज भी लॉकडाउन हटने के बाद अपने कर्मचारियों के लिए दस्ताने पहनना अनिवार्य बना रही है एक्सिस ग्रुप चरणबद्ध तरीके से अपनी योजना लागू करना चाहता है। लॉकडाउन तक सभी कर्मचारी मौजूदा मॉडल के तहत घर से काम करते रहेंगे। लॉकडाउन खत्म होने के बाद बैंक तीन चरणों में अपने ऑफिस खोलेगा। यह परिस्थितियों और सरकारी गाइडलाइंस पर निर्भर करेगा। पहले चरण में 10 फीसदी कर्मचारी ऑफिस आएंगे। इनमें अधिकांश टीम लीडर और ब्रांच मैनेजर होंगे। दूसरे चरण में यह संख्या बढ़ाकर 30 फीसदी की जाएगी। तीसरे चरण में 60 फीसदी कर्मचारी ऑफिस से काम पर आएंगे। लेकिन यह सबकुछ परिस्थिति और सरकारी गाइडलाइंस पर निर्भर होगा।

एक्सिस बैंक के एचआर प्रमुख राजकमल वेंपति ने कहा, ‘वास्तव में यह पुरानी आदतों को छोड़ने और नई आदतों को अपनाने का एक मौका है। हमें तभी ऑफिस जाने के बारे में सोचना चाहिए जब ऐसा करना जरूरी हो। इसमें कोई शक नहीं है कि कई तरह के काम करने के लिए ऑफिस का सुरक्षित माहौल जरूरी होता है।’ मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर और एचआर प्रमुख सुनील धर ने कहा, ‘माना जा रहा है कि शुरुआत में 15-20 फीसदी कर्मचारी ऑफिस आएंगे। कर्मचारियों की भूमिका का आधार पर यह फैसला किया जाएगा।’ बता दें ‎कि कोरोना लॉकडाउन के बाद जब कंपनियों के ऑफिस खुलेंगे तो चीजें पूरी तरह बदली हुई नजर आएंगी। अपने कर्मचारियों को कोरोना के कहर से बचने के लिए कंपनियों ने कई तरह की तैयारियां की हैं।



Leave a comment