राहुल गांधी बोले मध्य प्रदेश में बनी सरकार तो 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ

जागरूक टाइम्स 129 Jun 6, 2018

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी के मध्यप्रदेश में सत्ता में आने के 10 दिन के भीतर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में पिछले वर्ष के आंदोलन के दौरान गोलीबारी में किसानों के मारे जाने के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

मंदसौर जिले के पिपलियामंडी में किसान गोलीकांड की बरसी पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए यह महत्वपूर्ण घोषणा की। उन्होंने केंद्र की नरेंद्र मोदी तथा राज्य की शिवराज सिंह चौहान सरकार की नीतियों की आलोचना करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार में आने पर राज्य का नक्शा बदल देगी।

गांधी ने कहा कि राज्य के प्रत्येक जिले में फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री लगायी जाएगी। इससे यह लाभ होगा कि किसान अपनी फसल या उत्पाद इस तरह की इंडस्ट्री में ले जाएंगे और इससे किसानों को और अधिक आर्थिक लाभ मिल सकेगा। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया किसान समेत सभी के हित में कार्य करेंगे। हमारी पार्टी जो वादा करेगी, वो पूरा करेगी। हम 'पंद्रह लाख रूपयों' की तरह झूठे वादे नहीं करेंगे।

इस अवसर पर कमलनाथ, सिंधिया के अलावा वरिष्ठ नेता विवेक तन्खा, सुरेश पचौरी, दिग्विजय सिंह, अरुण यादव, कांतिलाल भूरिया और अन्य नेता भी मौजूद थे। राज्य में पिछले पंद्रह सालों से कांग्रेस सत्ता से बाहर है। केंद्रीय नेतृत्व ने हाल ही में कमलनाथ को अरुण यादव के स्थान पर प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सौंपी है। सिंधिया को चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया गया है।

राहुल गांधी ने मंदसौर में पिछले साल पुलिस गोलीबारी में मारे गए किसानों के परिजन से मुलाकात के बाद कहा कि वह अपनों को खोने का दर्द महसूस कर सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि इस घटना को एक साल बीत गया, लेकिन जांच आयोग की रिपोर्ट अब तक नहीं आई है। मंदसौर में किसानों पर गोलीबारी की पहली बरसी पर 'किसान समृद्धि संकल्प रैली को संबोधित करने से पहले गांधी ने ट्वीट किया, '' मंदसौर गोलीकांड के एक साल बाद भी जाँच आयोग की रिपोर्ट नहीं आई है।

शहीद किसानों के परिवार न्याय का इंतज़ार कर रहे हैं। उन्होंने कहा, '' अपने परिजनों को खोने का दर्द मैं जानता हूं। आज पीड़ित परिवारों के साथ कुछ पल बिताकर उनका दर्द बाँटने की कोशिश की। गौरतलब है कि पिछले साल मंदसौर में पुलिस गोलीबारी में छह किसानों की मौत हो गई थी।


Leave a comment