जितने चैनल उतना ही चार्ज अब सस्ते हुए चैनल

जागरूक टाइम्स 2574 Dec 26, 2018

नई दिल्ली (ईएमएस)। टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने सभी मल्टि सर्विस ऑपरेटर्स और लोकल केबल ऑपरेटर्स को 29 दिसंबर से नया टैरिफ सिस्टम लागू करने का आदेश दिया है।
ट्राई की ओर से कहा गया है कि नए सिस्टम में उपभोक्ताओं पर टीवी चैनल थोपे नहीं जा सकते हैं, बल्कि उन्हें केवल उन्हीं टीवी चैनलों को चुनने की आजादी होगी, जिन्हें वे देखना चाहते हैं और उसी के मुताबिक भुगतान भी करना होगा। सभी चैनल अलग-अलग और बुके के रूप में उपलब्ध होंगे, जिन्हें उपभोक्ता अपनी पसंद के अनुसार चुन सकता है।

नेटवर्क कपैसिटी फीस के रूप में ग्राहकों को हर महीने 100 चैनलों के लिए अधिकतम 130 रुपये देना होगा। यदि आप 100 से अधिक चैनल देखते हैं तो (हालांकि ऐसे ग्राहकों की संख्या महज 10-15 फीसदी है) अगले 25 चैनलों के लिए 20 रुपये अतिरक्त देने होंगे। इसके अलावा आप जो पे चैनल्स चुनेंगे उनकी तय कीमतें जुड़ जाएंगी। TRAI की ओर से चैनलों की प्राइस रेंज 1 से 19 रुपये के बीच तय है।

TRAI ने सभी सेवा प्रदाताओं से कहा है कि ग्राहकों को फ्री टु एयर (FTA) चैनल पूरी तरह मुफ्त दिखाने होंगे। इनके लिए उपभोक्ताओं से कोई शुल्क नहीं लिया जा सकता है। हालांकि, सभी FTA चैनल देना अनिवार्य नहीं है, यह उपभोक्ता पर निर्भर करता है कि वह किस-किस चैनल को चुनता है। दूरदर्शन के सभी चैनल दिखाना अनिवार्य है।

130 रुपये के नेटवर्क कैपिसिटी फीस में FTA चैनल या पे चैनल या फिर दोनों शामिल होंगे। 130 रुपये में आप पसंदीदा FTA चैनल्स चुन सकते हैं, लेकिन पे चैनल्स के लिए आपको अतिरिक्त खर्च करना होगा।
वैसे तो यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितने और कौन-कौन से चैनल अपने लिए चुनते हैं, लेकिन यदि आप कुछ चुनिंदा चैनलों के ही दर्शक हैं तो आपका खर्च निश्चित तौर पर कम होने जा रहा है।

TRAI ने कहा है कि बीएआरसी द्वारा दिए गए दर्शकों के पैटर्न के अनुसार 80 प्रतिशत उपभोक्ता या तो 40 या उससे कम चैनलों को देखते या खंगालते हैं। यदि कोई उपभोक्ता सावधानीपूर्वक अपने परिवार की पूरी आवश्यकता के लिए चैनल चुनता है तो उसे हर महीने मौजूदा कीमत से कम भुगतान करना होगा।

Leave a comment