विदेश से धन जुटाकर दूरसंचार व खुदरा क्षेत्र में तहलका मचाएगी रिलायंस

जागरूक टाइम्स 226 Jul 19, 2018

मुंबई । दूरसंचार क्षेत्र में तहलका मचाने के बाद अब खुदरा कारोबार में भी तहलका मचाने की तैयारी में जुटी रिलायंस इंडस्ट्रीज विदेश से धन जुटाएगी। मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाला रिलायंस समूह 2.5 अरब डॉलर का कर्ज लेने के लिए विदेशी बैंकों से बात कर रहा है। इस योजना से वाकिफ चार सूत्रों ने बताया कि इस पैसे को टेलिकॉम और रिटेल बिजनेस में लगाया जाएगा।

रिलायंस एक या उससे अधिक बार में लोन लेने के लिए दर्जन भर बैंकों से बात कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी ने फाइबर नेटवर्क और रिटेल स्टोर्स की संख्या बढ़ाने के बीच यह फैसला किया है। इस कर्ज से रिलायंस ढाई साल पहले लिया गया विदेशी कर्ज चुकाएगा। इससे कंपनी की ब्याज देनदारी कम होगी। कंपनी लंदन इंटरबैंक ऑफर्ड रेट (लाइबोर) से 1-1.25 फीसदी अधिक रेट पर 3-5 साल के लिए कर्ज ले सकती है।

सूत्रों ने बताया कि अभी निवेशक इतने ब्याज की मांग कर रहे हैं, लेकिन अब तक कुछ भी फाइनल नहीं है। एक अन्य सूत्र ने कहा कि इसके लिए कुछ सप्ताह में रोडशो शुरू हो सकते हैं। इस मामले में पूछे गए सवालों का रिलायंस ने खबर लिखे जाने तक जवाब नहीं दिया था। यह देश की बेस्ट रेटिंग वाली कंपनियों में शामिल है। इसलिए वह आसानी से कम रेट पर फंड जुटा सकती है। रिलायंस पहले कई बार ऐसा कर चुकी है।

कुछ समय पहले कंपनी की वार्षिक सामान्य सभा की बैठक (एजीएम) में चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा था कि दूरसंचार व्यापार को बढ़ाने के लिए और निवेश किया जाएगा। उन्होंने कहा था कि भारत ऊंची छलांग लगाकर जहां मोबाइल ब्रॉडबैंड में ग्लोबल लीडरशिप रोल में आ चुका है, वहीं फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड के मामले में हम काफी पीछे हैं। ऑप्टिकल फाइबर बेस्ड फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड ही भविष्य है।

जियो भारत को दुनिया के टॉप पांच फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड फैसिलिटी रखने वाले देशों में शामिल करने को प्रतिबद्ध है। पेट्रोलियम से रिटेल चेन चलाने वाले रिलायंस ग्रुप ने पिछले कुछ सालों में टेलिकॉम बिजनेस में 2.5 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया है। वह रिटेल बिजनेस का भी तेजी से विस्तार कर रही है।

Leave a comment