आईसीआईसीआई बैंक से आखिर हो ही गई चंदा कोचर की छुट्टी

जागरूक टाइम्स 254 Jun 20, 2018

नई दिल्ली। वीडियोकॉन लोन मामले में आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ व एमडी चंदा कोचर को बैंक बोर्ड ने लंबी छुट्टी पर भेज दिया है। अब जब तक उनके खिलाफ जांच चलेगी, वह छुट्टी पर रहेंगी। बैंक ने हाल ही में चंदा कोचर के खिलाफ एक जांच कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश बीएन श्रीकृष्णा हैं। जांच कितने दिनों तक चलेगी यह जानकारी किसी को नहीं है| बैंक के निगमीय संचार प्रमुख कौशिक दत्ता ने कहा कि वह इस मामले में कोई टिप्पणी नहीं कर सकते। 

उधर, चंदा कोचर अगामी मार्च तक सेवानिवृत्त हो रही हैं। यानी अब चंदा कोचर को अगर जांच के बाद भी हटाया नहीं जाता है तो भी वह अपने अधिकार के साथ बैंक में वापस नहीं आ सकतीं क्योंकि जांच में उतना वक्त लग जाएगा कि वह तब तक सेवानिवृत्त हो जाएंगी। 

आईसीआईसीआई बैंक में उपजी नई परिस्थितियां बाजार में बहार लेकर आई। बैंक के शेयर के दाम 4 फीसदी तक बढ़ गए। शेयर होल्डर खुश हैं। लेकिन बैंक बोर्ड ने अंत में दबाव में ही इस कदम को उठाया। उल्लेखनीय है कि जब यह मामला सामने आया तो सबसे पहले बोर्ड के चेयरमैन एमके शर्मा ने चंदा कोचर को क्लीन चिट दे दी। लेकिन अपनी ख्याति को बचाने के लिए बैंक बोर्ड ने चंदा कोचर को नहीं चाहते हुए भी छुट्टी पर भेज दिया। 

बाजार नियामक संस्था सेबी ने भी इस मामले को लेकर बैंक से स्पष्टीकरण पूछा था। उल्लेखनीय है कि कुछ भारतीय कंपनियां जो अभी दिवालियेपन का सामना कर रही हैं, का संबंध नू-पावर रिन्यूएबल्स के साथ है। यह कंपनी दीपक कोचर की है और दीपक कोचर चंदा कोचर के पति हैं। 

इससे पहले बैंक बोर्ड ने अपने नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी संदीप बक्शी के बारे में रिजर्व बैंक अॉफ इंडिया को जानकारी दे दी है। यानी कोचर के लिए आईसीआईसीआई बैंक का दरवाजा लगभग बंद हो चुका है।

Leave a comment