फ्लिपकार्ट-ऐमजॉन ने खुद नहीं घटाए दाम, ब्रैंड्स की ओर से मिली सारी छूट

जागरूक टाइम्स 156 Oct 3, 2019

कोलकाता (ईएमएस)। देश की दो सबसे बड़ी ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट साल की सबसे बड़ी सेल में भी भारी डिस्काउंट और कीमतों को प्रभावित करने से दूर रहे हैं। दोनों प्लैटफॉर्म पर सामान बेचने वाली कई कंपनियों ने यह जानकारी दी है। दरअसल, ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस का यह रुख फरवरी के फॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट (एफडीआई) रेग्युलेशन के हिसाब से सही है। 8 टॉप ब्रैंड्स के सीनियर एग्जिक्युटिव्स से पता चला कि ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट ने डिमांड बढ़ाने में मदद के लिए कीमत कम से कम रखने का अनुरोध किया है। दोनों ने यह बात उन कंपनियों से भी कही है, जो सिर्फ ऑनलाइन प्लैटफॉर्म पर बिक्री करती हैं। एक एग्जिक्यूटिव ने बताया कि, 'ई-कॉमर्स कंपनियों ने वादा किया था कि ब्रैंड्स की ओर से दी गई कीमत मेंटेन रखी जाएगी। कोई भी सामान नेट लैंडिंग कॉस्ट से कम पर नहीं बेचा जाएगा।' बता दें कि लैंडिंग कॉस्ट वह मूल्य है, जिस पर सेलर्स ब्रैंड से माल खरीदते हैं।

सूत्र के अनुसार, 'सेलर्स ने नेट लैंडिंग कॉस्ट पर काफी कम प्रॉफिट मार्जिन जोड़ा है, जिससे दाम कम रखने में मदद मिली है।' एग्जिक्यूटिव्स ने कहा कि बीते कुछ महीनों में कमजोर बिक्री के चलते ब्रैंड्स दबाव में थे। ऐसे में उन्होंने खुद ही जमा स्टॉक खत्म करने और डिमांड बढ़ाने के लिए कीमतें घटाई हैं। सूत्रों ने बताया कि ई-कॉमर्स कंपनियां प्राइस और डिस्काउंट क्रेडिट के सभी रेकॉर्ड रख रही हैं, जो ब्रैंड्स किसी संभावित ऑडिट के लिए पेश कर सकते हैं। इस बारे में कोडक और थॉमसन जैसे टीवी बेचने वाली सुपर प्लास्ट्रॉनिक्स के सीईओ अवनीत सिंह मारवाह का कहना है, 'ऑनलाइन प्लैटफॉर्म पर सारी छूट हम दे रहे हैं। इसके बावजूद हमें कुछ मुनाफा भी हो रहा है। हमने इस साल कमजोर डिमांड की वजह से कम दाम में अपने प्रॉडक्ट्स बेचने का फैसला किया है, जिसका अच्छा असर हो रहा है और बिक्री बढ़ रही है।'


Leave a comment